कोरोना हराने को “जनता के कर्फ्यू” में लोगों ने दिया पूरा सहयोग

55
938

डोईवाला। कोरोना वायरस के कहर को हराने के लिए सभी लोग एकजुट होकर लड़ाई लड़ रहे हैं।

प्रधानमंत्री मोदी की अपील का लोगों पर गहरा असर हुआ। और रविवार को सभी लोग अपने घरों में खुशी से कैद रहे। क्षेत्र में सड़कें और बाजर पूरी तरह बंद रहे।

रानीपोखरी, थानों, जौलीग्रांट, डोईवाला सहित पूरे क्षेत्र में मुख्य और गांव की सड़कें सुनसान रही। एक्का-दुक्का लोग ही सड़कों पर नजर आए। भीड़-भाड़ वाला जौलीग्रांट चौक, भानियावाला तिराहा और डोईवाला चौक पर पूरे दिन सन्नाटा पसरा रहा। लोग टीवी और फोन के माध्यम से ही देश-दुनिया और अपने आसपास की जानकारी लेते रहे।

अपने घरों में भी लोग भजन-कीर्तन करते रहे। घर की सफाई और जीवाणुनाशक दवाईयों का छिड़काव लोगों ने अपने घरों में किया। खाने-पीने में भी लोग सावधानियां बरत रहे हैं। घर के बड़े-बूढ़े बच्चों पर नजर रख रहे हैं। और बाहर जाने को मना कर रहे हैं। कुल मिलाकर कोरोना को हराने को हर नागरिक अपना पूरा सहयोग दे रहा है।

कांग्रेस नेता मोहित उनियाल ने कहा कि महामारी की गंभीरता को देखते हुए उन्होंने मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र रावत को 31 मार्च तक पूरे राज्य में लॉक डाउन करने को ट्वीट किया था।

जिसके कुछ समय बाद पता चला कि पूरे राज्य में लॉक डाउन कर दिया गया है। कहा कि ऐसे समय में सभी को शासन व प्रशासन को पूरा सहयोग देकर निर्देशों का पालन करना चाहिए।

भाजपा जिला मीडिया प्रभारी संपूर्ण सिंह रावत ने कहा कि शासन, प्रशासन, डॉक्टर और तमाम सुरक्षा एजेंसियां इस खतरे से निपटने को दिन-रात कर किए हुए हैं। इसलिए सभी को अपना पूरा सहयोग देना चाहिए।

एयरपोर्ट पर नौ उड़ानें हुई रद्द

डोईवाला। रविवार को देहरादून एयरपोर्ट पर फ्लाइटों की संख्या में काफी कमी देखी गई। 22 के लगभग फ्लाइटों में से आधी ही एयरपोर्ट पहुंची। और नौ फ्लाइटों को रद्द किया गया। स्पाइसजेट की चार, एअर इंडिया की तीन और इंडिगो की दो फ्लाइटों को रद्द किया गया। गुलजार रहने वाला एयरपोर्ट सूना दिखाई दिया। एयरपोर्ट पर सैकड़ों टैक्सी चालक भी फिलहाल अपनी सेवाएं नहीं दे रहे हैं।

सोशल मीडिया से की सहयोग की अपील

लोगों ने घरों में रहकर सोशल मीडिया के माध्यम से एक-दूसरे से सहयोग करने की अपील की। पहली बार सोशल मीडिया पर किसी अभियान को लेकर लोगों में इतनी एकजुटता देखी गई। लोगों ने संयम और धैर्य से रहकर  सहयोग करने की अपील की।

शाम पांच बजे बजाई ताली और थाली

कोरोना के प्रति अपने संकल्प को दर्शाने के लिए लोगों ने अपने घरों में शाम बजे ताली और थाली बजाई। जिससे साफ पता चलता है कि लोग इस बड़े खतरे से निपटने में अपना पूरा सहयोग दे रहे हैं। और संबधित विभागों के कार्यो को अपना समर्थन दे रहे हैं।

उत्तराखंड आंदोलन के दौरान देखा था ऐसा नजारा

रविवार को जैसा नजारा बाजारों और सड़कों पर देखने मिला। वैसा 1994 में उत्तराखंड आंदोलन के दौरान देखने को मिला था। उत्तराखंड आंदोलन में भाग लेने वाले कांग्रेस नेता मनोज नौटियाल ने बताया कि उत्तराखंड आंदोलन के दौरान सड़कें और बाजार ऐसे ही सुनसान हो जाया करते थे। लगभग दो दशक से अधिक समय बाद फिर वैसा ही नजारा देखने को मिला है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here