उत्तराखंडएक्सक्यूसिवदेशदेहरादूनधर्म कर्मपर्यटनराजनीति

अयोध्या भूमि विवाद खात्मे से राजनीति की दुकानों पर लगा ताला

Listen to this article

एतिहासिक फैसले को सराहा, सब्र और शांति व्यवस्था में दें सभी सहयोग

देहरादून। अयोध्या भूमि विवाद मामले में सुप्रीम कोर्ट के सुप्रीम फैसले का लोगों, जनप्रतिनिधियों और धर्म गुरूओं ने स्वागत किया है।

उत्तराखंड के 20वें स्थापना दिवस पर आए सुप्रीम फैसले से वैसे तो पूरे देश में खुशी का माहौल है। लेकिन राज्यवासियों में स्थापना दिवस पर आए एतिहासिक फैसले से अधिक उत्साह है। तमाम राजनैतिक दलों, धर्म गुरूओं और लोगों ने इस फैसले का स्वागत करते हुए कहा कि जिस फैसले के इंतजार में कई पीढ़ियां चली गई। वो फैसला वर्तमान पीढ़ियों के लिए काफी महत्वपूर्ण है। और वो खुशनसीब हैं कि वो इस फैसले को अपने रहते हुए देख रहे हैं। पूर्व काबीना मंत्री और डोईवाला के पूर्व विधायक हीरा सिंह बिष्ट ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट का फैसला सराहनीय है। दशकों से चला आ रहा विवाद समाप्त हुआ है। अयोध्या में मंदिर जरूर बनना चाहिए।

मारखमग्रांट के पूर्व प्रधान और वरिष्ठ कांग्रेसी अब्दूल रजाक ने कहा कि वो सुप्रीम कोर्ट के फैसले का स्वागत करते हैं। सुप्रीम कोर्ट ने भी माना है कि मंदिर को तोड़कर कोई मस्जिद नहीं बनाई गई थी। ये एक प्रोपेगंडा रचा गया था कि बाबर ने मंदिर तोड़कर मस्जिद बनाई थी। इस पर तश्वीर साफ हुई है। समाजवादी पार्टी के पूर्व जिलाध्यक्ष फुरकान अहम कुरैशी ने कहा कि ये जमीन नहीं मंदिर-मस्जिद का झगड़ा बन गया था। जिस पर बड़ा फैसला आया है। पुराने विवादों का खात्मा ही ठीक है। मंदिर बनने में कहीं कोई समस्या नहीं है। शिक्षिका मीना नौटियाल ने कहा कि सत्य और आस्था की जीत हुई है। फैसले से सभी देशवासियों को खुशी हुई है। भरत तोपवाल ने कहा कि जिस फैसले के इंतजार में पीढ़ियां खप गई। वो एक एतिहासिक फैसला है। जिससे भारत का पूरे विश्व में कद और बढ़ा है। बीजेपी जिला मीडिया प्रभारी सम्पूर्ण सिंह रावत ने भी फैसले को बेहतर बताते हुए सभी से शांति बनाए रखने की अपील की है।

इन्होंने कहा

अयोध्या विवाद पर आने वाले फैसले पर पूरे विश्व की निगाह लगी हुई थी। जिस तेजी से सुनवाई के बाद फैसला आया उससे लोगों की आस्था और विश्वास बढ़ा है। अंकुर शर्मा, महंत कालू सिद्ध पीठ।

पूरे क्षेत्र में दुरूस्त रही शांति व्यवस्था

डोईवाला। सुप्रीम कोर्ट के सबसे बड़े फैसले के बाद क्षेत्र में शांति व्यवस्था बनी रही। पुलिस और सुरक्षा एजेंसियों ने पूरी स्थिति पर पैनी नजर बना रखी है। शनिवार शाम तक पूरे क्षेत्र में कहीं से भी किसी अप्रिय घटना का कोई समाचार नहीं आया। एसएसआई महावीर सिंह रावत ने कहा कि पुलिस अलर्ट मोड़ में है। और पूरे क्षेत्र में शांति व्यवस्था बनी हुई है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button
error: Content is protected !!