उत्तराखंडदेशदेहरादूनस्वास्थ्य और शिक्षा

कोरोना विस्फोट: कोविड मरीजों के लिए एम्स ऋषिकेश में 80 बेड रिजर्व किए

खबर को सुने
ओपीडी पंजीकरण का समय सुबह 11 बजे तक किया निर्धारित
बढ़ते कोरोना संक्रमण को देखते हुए एम्स प्रशासन ने उठाए कदम
Rishikesh. कोविड19 वायरस संक्रमित मरीजों की लगातार बढ़ती संख्या के मद्देनजर एम्स ऋषिकेश ने कोविड मरीजों के उपचार के लिए 80 बेड रिजर्व किए हैं। वर्तमान में एम्स में कोरोना वायरस से संक्रमित 57 पेशेंट भर्ती हैं, जिनका उपचार चल रहा है। इसके साथ ही यहां एक सप्ताह के दौरान कोविड मरीजों की संख्या तीन गुना से ​अधिक हो गई है।
उत्तराखंड में कोरोना वायरस से संक्रमित मरीजों की संख्या एक बार फिर तेजी से बढ़ने लगी है। खासतौर से पिछले एक सप्ताह के दौरान संक्रमण के आंकड़े बहुत तेजी से बढ़े हैं। उधर भारत सरकार ने भी खतरनाक गति से बढ़ रहे कोविड संक्रमण को देखते हुए अगले 4 सप्ताह को बेहद अहम बताया है।
लगातार बढ़ती मरीजों की संख्या को देखते हुए एम्स अस्पताल प्रशासन ने भी इस महामारी से निपटने के लिए फिर से तैयारियों को व्यापकरूप देना शुरू कर दिया है। इस दिशा में एम्स प्रशासन ने कई महत्वपूर्ण कदम उठाए हैं। इनमें कोविड मरीजों के लिए बेड आरक्षित करने के साथ-साथ ओपीडी के समय में किया गया बदलाव भी शामिल है।
इस बाबत विस्तृत जानकारी देते हुए डीन हॉस्पिटल अफेयर्स प्रोफेसर यूबी मिश्रा जी ने बताया कि पिछले एक सप्ताह के दौरान उपचार हेतु एम्स में भर्ती होने वाले कोविड संक्रमित मरीजों की संख्या तीन गुना से अधिक हो गई है। बीती एक अप्रैल को यह संख्या मात्र 16 थी, जो कि 9 अप्रैल को 57 पहुंच गई है। उन्होंने बताया कि कोरोना संक्रमण की बढ़ती स्थिति को देखते हुए कोविड मरीजों के लिए एम्स में 80 बेड आरक्षित रखे गए हैं,
इनमें 20 बेड आईसीयू सुविधा वाले भी शामिल हैं। उनका कहना है कि आवश्यकता पड़ी तो यह संख्या बढ़ाई जाएगी। डीएचए ने बताया कि बीते सप्ताह में जांच हेतु कोविड सैम्पलिंग की रफ्तार ने भी तेजी पकड़ी है। एक अप्रैल को एम्स में कोविड के 791 सैम्पल लिए गए। इनमें 21 सैम्पल पाॅजिटिव पाए गए जबकि 9 अप्रैल को लिए गए 1468 सैम्पल में से 80 सैम्पल पाॅजिटिव आए हैं।
उधर संस्थान के जनसंपर्क अधिकारी हरीश मोहन थपलियाल जी ने बताया कि केंद्र और राज्य सरकार से प्राप्त दिशा-निर्देशों के अनुपालन में कोविड संक्रमण से बचाव हेतु एम्स में ओपीडी रजिस्ट्रेशन का समय कम कर दिया गया है। पूर्व में ओपीडी में मरीजों के रजिस्ट्रेशन का समय सुबह 8 बजे से दोपहर 12 तक था। जबकि अब ओपीडी मरीजों का पंजीकरण सुबह 11 बजे तक ही किया जाएगा।

Related Articles

Back to top button
error: Content is protected !!