उत्तराखंडदेहरादूनराजनीतिस्वास्थ्य और शिक्षा

डोईवाला चीनी मिल में हाड़ा अब 60-100 कुंतल हुआ

Listen to this article

डोईवाला। गन्ना किसानों के लिए डोईवाला शुगर मिल से एक अच्छी खबर आई है।

गन्ना समिति और चीनी मिल प्रशासन से वार्ता के बाद चीनी मिल में हाड़ा अब 60-100 कुंतल कर दिया गया है।

पहले डोईवाला चीनी मिल में हाड़ा 55-95 कुंतल होता था। इससे जिन किसानों के ट्रैक्टर भारी वजन के होते थे। उन्हे निधारित वजन के हिसाब से चीनी मिल में गन्ना देकर बाकि गन्ना वापस ले जाना पड़ता था। लेकिन अब पांच कुंतल हाड़ा अधिक होने से किसानों को इसका लाभ मिलेगा।

और अधिक वजन वाले ट्रैक्टर भी अब ज्यादा गन्ना तुलवा सकेंगे। जिसके लिए गन्ना समिति और चीनी मिल प्रशासन के बीच सहमति बन चुकी है। गन्ना समिति के चैयनमैन मनोज नौटियाल ने कहा कि चीनी मिल में अब हाड़े का वजन बढाकर 60-100 कुंतल कर दिया है।

वहीं पेराई सत्र के पहले दिन गन्ने के इंडेड को बढाकर दस हजार कुंतल कर दिया गया है। और चीनी मिल में गन्ना लाने वाले किसानों के लिए टीन शेड बनाने पर भी सहमति बनी है। इससे किसान बारिश आदि के समय टिन शेड में खड़े हो सकेंगे।

इससे किसानों के अधिक से अधिक गन्ना समिति द्वारा लिया जा सकेगा। और चीनी मिल में भी पेराई सत्र सुचारू रूप से चल सकेगा। इस दौरान केन मैनेजर सतेंद्र सिंह, मनोज नौटियाल, सुरेंद्र राणा, पूर्व चेयनमैन ईश्वरचंद पाल, बाबूलाल, रणजोत सिंह आदि उपस्थित रहे।

ये होता है हाड़ा

डोईवाला। चीनी मिल में तौल कांटे पर तौल का वजन निर्धारित होता है। यदि कोई किसान निर्धारित वजन से अधिक गन्ना लाता है तो उसे अतिरिक्त गन्ना वापस ले जाना पड़ता है। तौल कांटे पर गन्ना टैक्टर-ट्राली सहित तौला जाता है।

जिसमें से टैक्टर-ट्राली का वजन घटा दिया जाता है। लेकिन इसमें उन किसानों को दिक्कत होती है। जिनके टैक्टर भारी वजन के होते हैं। उन्हे अतिरिक्त गन्ना वापस ले जाना पड़ता था। अब इस समस्या का समाधान होने से गन्ना किसानों को लाभ मिलेगा।

Related Articles

Back to top button
error: Content is protected !!