उत्तराखंडएक्सक्यूसिवदेहरादूनराजनीति

“एसएमएस से मिलेगी किसानों को पर्ची”, कल से फिर चलेगा मिल का पहिया

खबर को सुने

गन्ना समिति ने शुरू की नई व्यवस्था, 3 करोड़ 8 लाख पहुंचेगा खाते में

डोईवाला। गन्ना किसानों के लिए एक बड़ी खबर है। गन्ने की सप्लाई को जरूरी मानते हुए चीनी मिल को बंद नहीं रखा जाएगा।

और कल शाम छह बजे से फिर से चीनी मिल में पेराई सत्र शुरू हो जाएगा। डोईवाला चीनी मिल को सफाई के चलते बुध और बृहस्पतिवार को बंद रखा गया था। लेकिन कोरोना के कारण लॉकडाउन में चीनी मिल के चलने पर किसानों के मन में दुविधा थी।

लेकिन चीनी मिल प्रशासन ने शुक्रवार शाम छह बजे से चीनी मिल में फिर से गन्ने की पेराई को तैयारियां कर ली हैं। इससे किसानों को काफी लाभ मिलेगा। क्योंकि गन्ना किसानों का काफी गन्ना छिला पड़ा हुआ है। और काफी गन्ना अभी भी खेतों में खड़ा है।

वहीं नई व्यवस्था के तहत गन्ना समिति द्वारा अब किसानों को गन्ने की पर्चियां नहीं भेजी जाएंगी। एसएमएस के माध्यम से किसानों को गन्ने की पर्चियां डिजीटल रूप में किसानों को भेजी जाएंगी। किसान फोन का एसएमएस दिखाकर अपना गन्ना तुलवा सकेंगे। उधर किसान उमेद बोरा ने कहा कि कोरोना को देखते हुए चीनी मिल में पेराई को बंद कर देना चाहिए।

देशहित पहले होना चाहिए। जबकि गन्ना समिति अध्यक्ष मनोज नौटियाल ने कहा कि कोरोना को देखते हुए एसएमएस से किसानों को पर्चियां दी जा रही हैं। वहीं 10 जनवरी से लेकर 20 जनवरी तक का गन्ने का भुगतान 3 करोड़ 8 लाख रूपए किसानों में खाते में ड़ाला जा रहा है। कहा कि किसान पहले ही परेशान है। इसलिए चीनी मिल को बंद रखना ठीक नहीं होगा।

इन्होंने कहा

चीनी मिल को सफाई के लिए बंद रखा गया था। शुक्रवार शाम से मिल फिर से चालू कर दी जाएगी। मिल में सोशल डिस्टेंस का ध्यान रखा जाएगा। किसानों को भी जरूरी उपायों के साथ गन्ना लेकर मिल तक आना होगा। मनमोहन रावत, अधिशासी निदेशक चीनी मिल डोईवाला।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button
error: Content is protected !!