उत्तराखंडदेहरादूनधर्म कर्मपर्यटनविदेश

टूट गया 14 अप्रैल का श्रापित मिथक, बैशाखी का शाही स्नान हुआ सकुशल सम्पन्न

खबर को सुने

हरिद्वार। महाकुम्भ का बैशाखी स्नान विवादों में ओर मिथक से भरा रहा है, इतिहास में ऐसा कभी नही हुआ कि बैशाखी पर्व बिना किसी विवाद, दुर्घटना अथवा रंजिश पूर्ण घटनाओं से परे रहा हो।यदि हम आजादी के बाद प्रथम कुम्भ जो 1950 में सम्पन्न हुआ को देखे तो जानकारी मिलती है कि बैसाखी पर्व 14 अप्रेल के शाही स्नान में हरकीपेडी में बेरियर टूटने से लगभग 50 से 60 श्रद्धालुओं की मृत्यु हुई थी। वही1986 के महाकुम्भ में बैशाखी पर्व में भीड़ के दवाब बढ़ने से 50 से 52 भक्त असमय ही काल ग्रसित हो गए थे। वर्ष 1998 का कुम्भ भी इस बुरी छाया से दूर न रह सका इस महाकुम्भ के 14 अप्रेल के शाही स्नान पर भी श्रापित छाया नजर आती है जब दो बड़े अखाड़ो के आपसी विवाद और लड़ाई से शाही स्नान बाधित हो गया, जबकि 2010 के बैशाखी पर्व शाही स्नान पर दुर्घटना में 07 व्यक्तियों की मृत्यु हो गयी थी।

आजादी के पश्चात महाकुम्भ के बैशाखी पर्व के शाही स्नान सदैव श्रापित रहा है पूर्व में निर्मल अखाड़ो का शाही स्नान समय सामंजस्य सही न होने के कारण अंधेरे में सम्पन्न होता था जबकि इस महाकुम्भ में सभी शाही स्नान न वरन समय से पूर्ण हुए बल्कि आम श्रद्धालुओं को भी हरकीपेडी में स्नान का सौभाग्य प्राप्त हुआ। यह इतिहास का प्रथम स्नान है जिसमे सभी शाही स्नान में भव्य पुष्प वर्षा हेलीकॉप्टर के माध्यम से हुई है।

साथ ही महाकुम्भ के सभी स्नान विवादरहित रहे और आम जनता में आकर्षक का केंद्र भी क्योकि पूर्व इतिहास में हम नजर डालते हैं तो पाते हैं कि पूर्व में शाही अखाड़ो के जुलूस इतने विराट और भव्य नही होते थे न ही इतनी अधिक संख्या में शाही रथ ओर वाहन इस्तेमाल होते हैं इस महाकुम्भ में कुछ शाही अखाड़ों ने रिकॉर्ड 1100 से 1157 शाही वाहन अपने शाही स्नान जुलूस में इस्तेमाल किये किन्तु *आई जी कुम्भ श्री संजय गुंज्याल* द्वारा तैयार अचूक रणनीति से कहीं भी कोई अप्रिय घटना नही हुई।

Related Articles

Back to top button
error: Content is protected !!