अपराधउत्तराखंडदेहरादूनराजनीति

जौलीग्रांट में खुल रहे शराब ठेके के विरोध में सड़कों पर उतरी विस्थापित महिलाएं

Listen to this article

देहरादून। रानीपोखरी शराब ठेके को बंद कर जौलीग्रांट पुलिस चौकी के सामने खोले जा रहे शराब ठेके का विरोध रूकने का नाम नहीं ले रहा है।

विस्थापित क्षेत्र अठुरवाला की महिलाएं और ग्रामीण टेंट लगाकर ठेका खोलने वाले स्थान पर धरने पर बैठ गई हैं। इन महिलाओं का कहना है कि जौलीग्रांट और अठुरवाला की पहचान एयरपोर्ट, अस्पताल और मेडिकल कॉलेज से है। इन राष्ट्रीय संस्थानों के करीब शराब ठेका नहीं खोला जाना चाहिए। करतार सिंह नेगी ने कहा कि पुलिस चौकी के पास राष्ट्रीय सुरक्षा से जुड़ा एक महत्वपूर्ण संस्थान भी है। जिसके करीब शराब ठेका खोला जा रहा है।

सभासद राजेश भट्, संदीप नेगी, प्रदीप नेगी, कांग्रेस जिलाध्यक्ष गौरव चौधरी, मोहित उनियाल, राजवीर खत्री आदि भी ठेके के विरोध में महिलाओं के साथ धरने पर बैठे। महिलाओं का साफ कहना है कि जौलीग्रांट में ठेका नहीं खुलने दिया जाएगा। वहीं कुछ लोग ऐसे भी हैं। जो अपनी निजी फायदे के लिए जौलीग्रांट में ठेके का विरोध को हवा दे रहे हैं।

ये वो लोग हैं जो रानीपोखरी में ही शराब ठेका रहने देना चाहते हैं। इन लोगों का मानना है कि यदि जौलीग्रांट में ठेका खुल गया तो उनका रानीपोखरी का धंधा ठप हो जाएगा। कुछ लोगों ने धरना दे रहे लोगों को समोसे और कोलड्रिंक भी पिलाई। वहीं आसपास के ठेके वाले भी जौलीग्रांट में ठेका नहीं खुलने दे रहे हैं।

कुछ मिलाकर महिलाएं शराब ठेके के विरोध में मुखर हैं। और जनप्रतिनधियों को भी महिलाओं का साथ देना पड़ रहा है। जबकि कुछ लोग अपने लाभ के लिए विरोध को हवा दे रहे हैं। मौके पर शांति देवी, लीला देवी, अनिता रावत, बीना तोपवाल,

गीता तोपवाल, मोहनी भट्ट, दर्शनी भट्ट, सीता देवी, रेखा देवी, कमला देवी, मकान सिंह, सुरेंद्र सिंह, शेर सिंह, रेखा रावत, अनिता, उर्मिला, रजिता, लक्ष्मी, विमला, अनिता देवी, आशा देवी, भवनी देवी, पुष्पा देवी, उमा रावत, सरोजनी आदि उपस्थित रहे।

Related Articles

Back to top button
error: Content is protected !!