उत्तर प्रदेशउत्तराखंडएक्सक्यूसिवदेशदेहरादूनमहाराष्ट्रराजनीतिविदेशस्वास्थ्य और शिक्षा

पीएम मोदी के कृषि कानून वापस लेने के एलान करते ही सोशल मीडिया पर ट्रेंड हुआ ‘किसान आंदोलन’

खबर को सुने

अगले साल पांच राज्यों- यूपी, उत्तराखंड, पंजाब, गोवा और मणिपुर में चुनाव के ठीक पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Prime Minister Narendra Modi) ने तीनों कृषि कानून वापस लेने का ऐलान करके देश की पूरी राजनीति की धारा मोड़ दी है।

इसके साथ ही किसान आंदोलन और FarmLaws सोशल मीडिया पर ट्रेंड पकड़ गए हैं। मोदी ने जैसे ही गुरुनानक देवजी की 552वीं जयंती(Guru Nanak Jayanti 2021) पर आज यानी 19 नवंबर को तीनों कृषि कानून वापस लेने का ऐलान किया,

किसान आंदोलन और FarmLaws और Tikait  सोशल मीडिया पर ट्रेंड कर गए। मोदी ने अपने 18 मिनट के संबोधन में कहा कि सरकार तीनों कृषि कानूनों को नेक नीयत के साथ लाई थी, लेकिन यह बात हम किसानों को समझा नहीं पाए। हम किसानों को समझा नहीं पाए कि ये छोटे किसानों को ताकत देगा।

अब इन्हें वापस लेने सदन में प्रक्रिया पूरी कराएंगे। गुरु पर्व पर आंदोलन करने वाले किसानों से अपील करेंगे कि वे अपने-अपने घर जाएं।

ऐसे बना कानून
1. 16 सितंबर 2020 को तीनों कृषि कानून लोकसभा से पारित
2. 20 सितंबर 2020 को राज्यसभा से विधेयक पास
3. 27 सितंबर 2020 को राष्ट्रपति की मुहर
4. 19 सितंबर 2021 कृषि कानून वापस

ऐसे चला आंदोलन
24 सितंबर 2020 पंजाब में किसानों का रेल रोको आंदोलन
25 सितंबर 2020 देश भर में किसानों का प्रदर्शन
26 नवंबर 2020 पंजाब, हरियाणा से किसानों का दिल्ली कूच
27 नवम्बर 2020 दिल्ली की सीमाओं पर डटे प्रदर्शनकारी

पीएम मोदी कृषि आंदोलन वापस करते हुए बोले कि दिए जैसे प्रकाश का सत्य कुछ किसान भाइयों को समझा नही पाए।
इसी महीने के अंत मे शुरू होने वाले संसद सत्र में कृषि कानूनों को वापस लेने की संवैधानिक प्रक्रिया को पूरा करेंगे।

Related Articles

Back to top button
error: Content is protected !!