उत्तराखंडदेहरादूनराजनीति

प्रशासनिक अधिकारियों को करने पड़ रहे नायब व तहसीलदार के कार्य, दो दिन का कार्य बहिष्कार

Listen to this article

लेखपाल संघ ने धरना-प्रदर्शन कर किया दो दिन का कार्य बहिष्कार

Dehradun. लेखपाल संघ ने सोमवार व मंगलवार को कार्य बहिष्कार करते हुए धरना-प्रदर्शन किया।

लेखपाल संघ ने कहा कि तहसीलों में कार्यरत प्रशासनिक अधिकारियों को तहसीलदार और नायब तहसीलदार के कार्य करने पड़ रहे हैं। जिस कारण इस आदेश को निरस्त करने को लेकर उन्होंने धरना-प्रदर्शन करते हुए मुख्यमंत्री को ज्ञापन भेज गुहार लगाई है।

संघ का कहना है कि प्रशासनिक अधिकारियों को तहसीलदार व नायब तहसीलदार की अनुपस्थिति में उनके कार्य भी करने पड़ रहे हैं। जिलाधिकारी देहरादून, रुद्रप्रयाग, पौड़ी ने तहसीलदार नायब तहसीलदार के रिक्त पदों का कार्य तहसीलदार, नायब तहसीलदार सेवा नियमावली के विपरीत प्रशासनिक अधिकारियों को सौंप दिया है।

जबकि तहसीलों में वरिष्ठ राजस्व निरीक्षक, रजिस्टार कानूनगो जो नायब तहसीलदार के पद पर कई वर्षों से पात्रता के आधार पर कार्यरत हैं, उनकी अनदेखी की गई है।

ऐसी स्थिति में अन्य संवर्गीय अधिकारियों को तहसीलदार का कार्यभार दिया जाना नियम विरुद्ध है। इसीलिए लेखपाल संघ में 22 मार्च व 23 मार्च को सभी तहसील मुख्यालयों पर कार्य बहिष्कार का निर्णय लिया गया। अध्यक्षता जसपाल राणा, संचालन कुलदीप गैरोला ने किया।

मौके पर जिला सचिव मनोज मिश्रा, गंगा प्रसाद उनियाल, संगत सिंह सैनी, प्रमोद कुमार, राजेश उनियाल, कृपाल राठौड, रविकांत,अरूण कुमार, अब्दूल अफीज, संजय वर्मा, रिजवान हसन, शंभूनाथ गांगूली, आत्माराम सैनी आदि उपस्थित रहे।

Related Articles

Back to top button
error: Content is protected !!