उत्तराखंडएक्सक्यूसिवदेशदेहरादूनधर्म कर्मपर्यटनराजनीतिविदेशस्वास्थ्य और शिक्षा

और जब 2013 में मोदी को जौलीग्रांट एयरपोर्ट से केदारनाथ नहीं जाने दिया गया था, तब मायूस होकर लौटे थे मोदी

खबर को सुने

मोदी का 2013 का अधूरा संकल्प 2021 में हुआ पूरा

Dehradun. बाबा केदार के अनन्य भक्त प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने केदारनाथ में आदि शंकराचार्य की मूर्ति का अनावरण कर करोड़ों के विकास कार्यो का शिलान्यास और लोकार्पण किया है।

अपने प्रधानमंत्री काल में मोदी पांचवी बार बाबा केदार के दर्शनों को आए हैं। लेकिन इससे भी पहले 2013 में जब मोदी गुजरात के मुख्यमंत्री थे। तब 15-16 जून 2013 में केदारनाथ में जल प्रलय आई थी। जिसमें हजारो लोग मारे गए थे। गुजरात के मुख्यमंत्री रहते हुए जब उन्हें केदारनाथ आपदा के बारे में पता चला तो वो तुरंत अपने राज्य विमान से जौलीग्रांट एयरपोर्ट पहुंचे थे। और तब वो जौलीग्रांट एयरपोर्ट से केदारनाथ जाना चाहते थे।

लेकिन उत्तराखंड के तत्कालीन मुख्यमंत्री विजय बहुगुणा की सरकार ने तब मोदी को जौलीग्रांट एयरपोर्ट से हेलीकॉप्टर से आगे नहीं जाने दिया था। मोदी काफी देर तक एयरपोर्ट पर उत्तराखंड सरकार की हरी झंड़ी का इंतजार करते रहे। लेकिन उन्हे केदारनाथ नहीं जाने दिया गया। और वो जौलीग्रांट से वापस लौट गए।

उस वक्त देश के कोने-कोने से हजारों श्रद्धालू केदारनाथ में थे। जिनमें से कुछ को रेस्क्यू किया गया। कुछ मारे गए और कुछ लापता हो गए। अपने परिजनों की तलाश में तब हजारों लोगों का हुजूम एयरपोर्ट के चोरपुलिया वाले गेट के पास मौजूद था। एयरपोर्ट से वापस लौटने से पहले मोदी अपने काफिले के साथ एयरपोर्ट के इस गेट के पास आए।

और लोगों से कहा कि उनकी तरफ से हर संभव मदद पहुंचाई जा रही है। उन्होनें लोगों को ढांढस भी बधाया था। तब मुख्यमंत्री रहते हुए मोदी ने केदारनाथ मंदिर के पुनर्निर्माण का प्रस्ताव भी उत्तराखंड की विजय बहुगुणा सरकार को दिया था।

जिसे सरकार ने स्वीकार नहीं किया था। मोदी ने आपदा प्रभावितों के लिए एक विशेष किट भी भिजवाई थी। उसके बाद समय का पहिया ऐसा घूमा कि मोदी 2014 में सीएम से पीएम हो गए। और वहीं मुख्यमंत्री विजय बहुगुणा की कुर्सी को आपदा लील गई। आज विजय बहुगुणा भाजपा में हैं।  मुख्यमंत्री रहते हुए मोदी का 2013 में केदारनाथ में पुन निर्माण का जो सपना अधूरा रह गया था। वो उनके दोबारा प्रधानमंत्री बनने के बाद अब जाकर पूरा हुआ है।

15000 गुजरातियों को एक दिन में ही निकाल ले गए थे मोदी

Dehradun. मोदी ने केदारनाथ आपदा में संकट के वक्त पर्यटकों और श्रद्धालुओं की मदद के लिए उत्तराखंड के लोगों की भरपूर सराहना की थी। क़ुदरत का कहर झेल रहे केदारनाथ धाम में उस वक्त उन्होंने फंसे 15000 गुजरातियों को केवल एक दिन में सुरक्षित निकाल लिया था। देहरादून एयरपोर्ट पर उन्होंने गुजरातियों के लिए विशेष फ्लाइट चलाई थी। और जल्द ही अपने राज्य के सभी लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचा दिया था।

आदर्श नगर कल्याण समिति जौलीग्रांट के सचिव रह चुके भगीरथ ढौंडियाल बताते हैं कि 2013 में एयरपोर्ट के बाहर आपदा प्रभावितों के लिए समिति की तरफ से राहत शिविर लगाया गया था। तब मोदी ने राहत शिविर के पास आकर लोगों से बातचीत कर हर संभव मदद का आश्वासन दिया था।

पीएम बनने के बाद पहली बार आए थे तीन मई 2017 को

डोईवाला। नरेंद्र मोदी पीएम बनने के बाद तीन मई 2017 को पहली बार केदारनाथ आए थे। उसके बाद वो 20 अक्टूबर 2017 को केदारनाथ आए थे। मोदी तीसरी बार एक नवंबर 2018 को केदारनाथ आए थे। और फिर चौथी बार 18 मई 2019 को केदारनाथ आए थे। तब उन्होंने केदारनाथ गुफा में 17 घंटे बिताए थे। और अब वो पांचवी बार आदि शंकाराचार्य की मूर्ति के लोकार्पण को केदारनाथ आए हैं।

Related Articles

Back to top button
error: Content is protected !!