उत्तराखंडएक्सक्यूसिवदेहरादूनराजनीति

शहीदों का अपमान: सरकारी विज्ञापनों में शहीदों और आंदोलनकारियों को जगह नहीं

Listen to this article

देहरादून। उत्तराखण्ड राज्य आन्दोलनकारी मंच द्वारा शहीद स्मारक पर राज्य स्थापना की तैयारियों औऱ  रणनीति को लेकर मंथन किया गया।

सभी आंदोलनकारियों ने एक जुट होकर कहा कि सरकार द्वारा किसी भी विज्ञापन मे शहीदों का व राज्य आन्दोलनकारियों का ना तो जिक्र हे औऱ ना ही कोई रेबार दिया है। आन्दोलनकारी मंच दिनांक 08 नवम्बर को सायं 05-30-बजे शहीद स्मारक पर एकत्र होकर उत्तराखण्ड की सांस्कृतिक धरोहर *ईगास* दीपदान व भेलो जलाकर मनाएंगे। *राज्य स्थापना दिनांक 09-नवम्बर* को राज्य आन्दोलनकारी अपने अपने घरो से दाल की पकौड़ी, व स्वाले व मिठाई आदि बनाकर शहीद स्मारक मे जुटेंगे। और  मातृ शक्ति मांगल गीत व अन्य प्रोग्राम जनगीत, कविता औऱ विचार प्रस्तुत करेंगे।

अधिक से अधिक आन्दोलनकारी अपनी परंपरागत परिधान मे टोपी,  साड़ी व नथ आदि पहनकर शहीद स्मारक मे जुटेंगे। सभा का संचालन आन्दोलनकारी मंच के प्रदेश अध्यक्ष जगमोहन नेगी व अध्यक्षता सयुक्त संघर्ष समिति के अध्यक्षता वेद प्रकाश शर्मा द्बारा किया गया। प्रदेश महासचिव रामलाल खंडूड़ी व जिला अध्यक्ष प्रदीप कुकरेती ने कहा की सरकार को दलगत राजनीति से उठकर राज्य स्थापना दिवस पर शहीद परिवारों को व राज्य आन्दोलनकारी संगठन व वरिष्ठों को भी रेबार देते तो अच्छा संदेश समाज मे जाता। परन्तु संकीर्ण मानसिकता व अपरिपक्वता का जो परिचय दिया। बेठक मे शहीद राजेश रावत की माँ आनन्दी राव , जगमोहन सिह नेगी, रवीन्द्र जुगरान, वेद प्रकाश शर्मा, रामलाल खंडूड़ी, प्रदीप कुकरेती, धन सिह गुसाई, पूर्ण सिह लिन्ग्वाल, बलबीर सिह नेगी, आचार्य श्रीत सुन्द्रियाल, प्रभा नेथानी, सुलोचना भट्ट, विक्रम भंडारी, नेता जी संघर्ष समिति के अरविन्द गुप्ता, युद्धवीर सिह चौहान, अजय राणा, यशवंत रावत, प्रेम सिह नेगी, शाकुम्बरी रावत, चंद्रकाता वेल्वाल , स्तेश्व्री नेगी , सुभागा कण्ड्वाल , इन्दु बाला रावत जबर सिह पावेल , जीत्पाल बर्त्वाल , विनोद असवाल , लोक बहादुर थापा , अजय उनियाल , सुदेश सिह , सुनील जुयाल , विजय बलूनी , संजय बलूनी , गौरव खंडूरी , महिपाल सिह नेगी , प्रभात डड्रियाल , धनंजय घिल्डियाल , पार्वती नेगी , मधु डबराल , पार्वती रतूड़ी , लक्ष्मी देवी गुसाइ , पदमा मेहरा , सत्तेस्वरी पंत , राजेश्वरी च्मोला आदि मुख्य रूप से उप्स्तीथ रहे। 

Related Articles

4 Comments

  1. Wow! This could be one particular of the most helpful blogs We have ever arrive across on this subject. Basically Wonderful. I’m also a specialist in this topic so I can understand your hard work.

  2. I do agree with all the ideas you have introduced for your post. They are really convincing and can certainly work. Nonetheless, the posts are too short for starters. Could you please prolong them a little from subsequent time? Thank you for the post.

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button
error: Content is protected !!