उत्तराखंडदेहरादूनस्वास्थ्य और शिक्षा

एसडीएम कॉलेज में स्वतंत्रता आंदोलन के बारे में विशेषज्ञों ने विद्यार्थियों को दी जानकारी

Listen to this article

डोईवाला। शहीद दुर्गा मल्ल राजकीय स्नातकोत्तर महाविद्यालय डोईवाला के राजनीति विज्ञान विभाग एवं राष्ट्रीय सेवा योजना के संयुक्त तत्वाधान में स्वतंत्रता के 75 वें वर्ष के अमृत महोत्सव का समापन किया गया।

मुख्य वक्ता के रूप में एसजीआरआर यूनिवर्सिटी की एसोसिएट प्रोफेसर डॉ प्रीति तिवारी ने कहा कि स्वतंत्रता आंदोलन सभी का आंदोलन था। यह सामाजिक, आर्थिक व राजनीतिक आंदोलन था। जिसके दो मुख्य आधार थे। शोषण के विरुद्ध आवाज व यूरोपीय देशों में क्रांतियां सफल हो रही थी। उसी काल में दयानंद सरस्वती ने शिक्षा के क्षेत्र में जागरूकता उत्पन्न की।

राष्ट्रीय आंदोलन में राष्ट्रीयता का विकास हुआ। राजा राममोहन राय का भी उल्लेख किया। उन्होंने बाल, लाल, पाल को स्मरण केसरी के प्रकाशित लेखों का वर्णन किया। महात्मा गांधी ने इस आंदोलन को जन आंदोलन में परिवर्तित किया। स्वदेशी व वायकॉट को उन्होंने अस्त्र बताया।

प्राचार्य प्रोफेसर डीसी नैनवाल ने कहा कि किसी भी समाज को जागृत करने के लिए चेतना आवश्यक है, और इसमें महिलाओं व युवाओं का हमेशा से योगदान रहता है। युवा पीढ़ी से अनेक अपेक्षाएं हैं। राष्ट्रीय सेवा योजना के कार्यक्रम अधिकारी डॉ एसके कुड़ियाल ने मुख्य अतिथि का स्वागत किया।

डॉ राखी पंचोला ने अतिथियों का परिचय कराते हुए कार्यक्रम का संचालन किया। इस अवसर पर डॉक्टर अंजली वर्मा, डा० राकेश जोशी, डा० मनीषा सारस्वत, डा० राखी पंचोला, डा० अंजली वर्मा, आयुषी डबराल, स्वाति, मानसी, समीक्षा, खुशबू, राखी नौटियाल, पायल, आशीष एवं शिवानी उपस्थित रहे।

Related Articles

Back to top button
error: Content is protected !!