उत्तराखंडएक्सक्यूसिवदेशदेहरादूनराजनीति

मांगे पूरी नहीं होने पर कर्मचारियों संग धरने पर बैठेंगे हरीश रावत

खबर को सुने

वेतन नहीं मिलने से नाराज कर्मचारी चीनी मिल गेट पर धरने पर बैठे

देहरादून। पेराई सत्र शुरू होने से ठीक पहले विभिन्न मांगों को लेकर चीनी मिल कर्मचारी मिल गेट पर धरने पर बैठ गए। पूर्व सीएम हरीश रावत ने मौके पर जाकर उन्हे अपना सर्मथन दिया।

चीनी मिल कर्मचारियों को पिछले तीन माह का वेतन, 2015 से लेकर अब तक का एरियर, मेडिकल बिल का पैसा, ओवर टाइम का पैसा नहीं दिया गया है। जिस कारण कर्मचारी धरने पर बैठने को मजबूर हैं। बुधवार दोपहर 2:50 के लगभग हरीश रावत ने डोईवाला पहुंचकर मिल कर्मचारियों को अपना सर्मथन दिया। और संबधित अधिकारियों से फोन पर बातचीत कर कर्मचारियों की मांगें तुरंत पूरी करने को कहा। हरीश रावत ने कहा कि कर्मचारियों की मांगें जायज हैं। यदि उनकी मांगें नहीं मानी गई तो वो खुद कर्मचारियों के साथ धरने पर बैठेंगे। राजीव गांधी पंचायत राज संगठन, युवा कांग्रेस व एनएसयूआई कार्यकर्ताओ ने भी चीनी मिल गेट डोईवाला पहुंचकर मिल कर्मचारियों के धरने को समर्थन दिया। संगठन के प्रदेश संयोजक मोहित उनियाल ने कहा कि चीनी मिल डोईवाला के पेराई सत्र का उद्घाटन हर साल क्षेत्रीय विधायक द्वारा किया जाता है।

लेकिन पहली बार क्षेत्रीय विधायक गन्ना किसानों और मिल कर्मचारियों की समस्याओं से बचने के लिए पेराई सत्र के शुभारंभ पर नहीं आ रहे हैं। क्षेत्रीय विधायक और मुख्यमंत्री चीनी मिल से कुछ ही दूरी पर आयोजित होने वाले दूसरे कार्यक्रम में उसी दिन थालिया और गिलास बांटने आ रहे हैं। गन्ना किसानों का 10 करोड़ से ज्यादा मिल पर बकाया है। मिल कर्मचारी रुके हुए वेतन व अन्य समस्याओं के लिए आंदोलन करने के लिये मजबूर हैं। पेराई सत्र के उद्घाटन के दिन पंचायत संगठन, एनएसयूआई व युवा कांग्रेस द्वारा शुगर मिल गेट पर काली पट्टी बांध कर विरोध प्रदर्शन करेंगे। मौके पर मनीष यादव, गौरव मल्होत्रा, सुभाष पाल, शुभम काम्बोज, आरिफ हसन, आशिक, सावन राठौर, स्वतन्त्र बिष्ट आदि उपस्थित रहे।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button
error: Content is protected !!