उत्तराखंडएक्सक्यूसिवदेशदेहरादूनधर्म कर्मराजनीति

(कालूवाला में गोशाला का लोकार्पण) गौवंश के लिए देश में पहला कानून उत्तराखंड में बना: त्रिवेंद्र सिंह रावत

खबर को सुने

देहरादून। पूर्व सीएम त्रिवेंद्र रावत, भोलेजी महाराज और मंगला माता ने कालुवाला में श्री हंस कालू सिद्ध बाबा गोशाला का लोकार्पण किया।

जिसमें ग्रामीणों व जनप्रतिनिधियों ने भाग लिया। इस गोशाला में सड़कों पर घूम रहे आवारा पशुओं को रखा जा सकेगा। जिससे लोगों द्वारा छोड़े गए पशु व सड़कों पर घूम रहे पशुओं को इस गोशाला में रखा जा सकेगा। हंस फाउंडेशन की अध्यक्ष मंगला माता ने कहा कि गौवंश संरक्षण के लिए उनकी तरफ से हर संभव प्रयास किए जा रहे हैं। लेकिन जनभागीदारी से इस मुहिम को मंजिल तक पहुंचाया जा सकता है।

इसलिए प्रत्येक को अपनी सामर्थ के अनुसार इस कार्य में मदद देनी चाहिए। पूर्व सीएम और डोईवाला विधायक त्रिवेंद्र सिंह रावत ने कहा कि सड़कों पर घूम रही गायों को आवारा पशु कहना गलत है। गौमाता को आवारा पशु नहीं कहा जा सकता है। इसलिए उनके मुख्यमंत्री रहते गौवंश के लिए देश में पहला कानून उत्तराखंड में बनाया गया।

पहले के एक्ट में सिर्फ गौसरंक्षण के लिए कानून बनाया था। लेकिन उनकी सरकार में इसमें नंदी को शामिल कर पूरे गौवंश के लिए कानून बनाया गया। देश की पहली लैब ऋषिकेश में बनाई गई है। जिसमें ऐसी तकनीक विकसित की गई है जिससे 93 प्रतिशत तक बछिया होती हैं। श्रीराम लैब में देशी गाय के गौमूत्र पर शोध करवाया गया है। जिससे उनके गुणों के बारे में पूरी बातें सामने आई हैं।

पूर्व जिपं उपाध्यक्ष डबल सिंह भंडारी ने कहा कि गौवंश को बचाने की इस मुहिम में अब हंस फाउंडेशन का भी सहयोग मिल रहा है। संचालन प्रधान पंकज रावत ने किया। इस अवसर पर भाजपा मंडल अध्यक्ष विनय कंडवाल, संदीप नेगी, विनीत मनवाल, राजकुमार पुंडीर, पंकज रावत, विक्रम नेगी, सतेंद्र चौधरी, राजकुमार, वीरेंद्र रावत, भारत भूषण पेले आदि मौजूद रहे।

Related Articles

Back to top button
error: Content is protected !!