उत्तराखंड

आदर्श आचार संहिता के लागू होते ही एक्शन मोड पर आयी दून पुलिस, इन पर रहेगी कड़ी नजर..

देहरादून: आगामी लोक सभा चुनाव की तिथियां घोषित होने से आज दिनांक 16-03-2024 को सम्पूर्ण भारत वर्ष में लागू आदर्श आचार संहिता के दृष्टिगत वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक देहरादून द्वारा पुलिस कार्यालय देहरादून में जनपद के समस्त राजपत्रित अधिकारियों/थाना प्रभारियों तथा चौकी प्रभारियों के साथ गोष्ठी आयोजित की गई। गोष्ठी के दौरान एसएसपी देहरादन द्वारा समस्त अधिकारियों को आदर्श आचार संहिता का शतःप्रतिशत अनुपालन सुनिश्चित करने के निर्देश दिये गये, साथ ही स्पष्ट हिदायत दी की इसमें किसी प्रकार की कौताही न बरती जाये। इस दौरान आचार संहिता के दृष्टिगत उपस्थित अधिकारियों को निम्न दिशा निर्देश दिये गयेः-

1- अगामी लोक सभा चुनाव के दृष्टिगत सभी थाना प्रभारी अपने-अपने थाना क्षेत्रों में चिन्हित किये गये ऐसे सभी अराजक तत्व, जो चुनाव प्रक्रिया को प्रभावित कर सकते है के विरूद्व प्रभावी निरोधात्मक कार्यवाही करना सुनिश्चित करें। ऐसे सभी अभियुक्तों के विरूद्व बाउंडऑन की कार्यवाही के साथ-साथ गंुडा एक्ट के तहत जिला बदर की कार्यवाही सुनिश्चित की जाये।

2- सभी थाना प्रभारी अपने-अपने थाना क्षेत्रों में सवेंदनशील तथा अतिसवेंदनशील स्थानो पर चुनाव से पूर्व एरिया डोमिनेशन तथा फ्लैग मार्च की कार्यवाही करते हुए चुनाव के दृष्टिगत संवेदनशील मुददों पर सतर्क दृष्टि रखना सुनिश्चित करें।

3- सभी थाना प्रभारी आदर्श आचार संहिता के दृष्टिगत अपने-अपने थाना क्षेत्रों में शस्त्रधारकों का भौतिक सत्यापन करते हुए आवश्यक कार्यवाही करना सुनिश्चित करेंगे।

4- चुनाव के दौरान अवैध शराब तथा अवैध नकदी की रोकथाम हेतु जनपद में स्थापित सभी अर्न्तजनपदीय/अर्न्तराज्यीय बैरियरों के साथ-साथ आन्तरिक मार्गो पर स्थापित किये गये बैरियरों पर स्थानीय पुलिस के साथ अर्द्वसैनिक बलो को नियुक्त कर अवैध शराब/अवैध नकदी की रोकथाम हेतु जनपद की सीमा में प्रवेश करने वाले प्रत्येक वाहनो/व्यक्तियो की चैकिंग सुनिश्चित की जाये।

5- सभी थाना प्रभारी अपने-अपने थाना क्षेत्रों में ऐसे सभी संवेदनशील मुददो पर जो चुनावी प्रक्रिया को प्रभावित कर सकते है, सतर्क दृष्टि रखते हुए प्रभावी कार्यवाही करना सुनिश्चित करेगें। अराजक तत्वों द्वारा सोशल मीडिया प्लेटफार्मस तथा सॉर्ट मैसेज सर्विस पर आपत्तिजनक मैसेजों के माध्यम से चुनावी प्रक्रिया को प्रभावित करने का प्रयास किया जा सकता है, उक्त के दृष्टिगत सभी थाना प्रभारी सोशल मीडिया प्लेटफार्मस तथा सॉर्ट मैसेज सर्विस पर भी सतर्क दृष्टि रखना सुनिश्चित करेंगे।

ये भी पढ़ें:  चारधाम यात्रा पंजीकरण का आंकड़ा पहुंचा 10.66 लाख

6- नोडल अधिकारी चुनाव इस बात को सुनिश्चित करे कि ऐसे सभी पुलिस कर्मी जिनके द्वारा पोस्टल बैलेट के माध्यम से अपने मताधिकार का प्रयोग किया जाना है, उक्त सभी के पोस्टल बैलेट मंगवाने हेतु आवश्यक कार्यवाही को समय से पूर्ण कर लिया जाये तथा जिन पुलिस कर्मियों द्वारा निर्धारित समयावधि में पोस्टल बैलेट से सम्बन्धित सूचना उपलब्ध न करायी जाये उनके विरूद्व आवश्यक विभागीय कार्यवाही अमल में लायी जायेगी।

Related Articles

Back to top button
error: Content is protected !!