उत्तराखंडदेहरादूनराजनीति

पक्का मार्ग नहीं होने से डोईवाला के पहाड़ी क्षेत्रों से हो रहा पलायन

Listen to this article

हलद्वाडी व लड़वाकोट मोटर मार्ग का बुरा हाल

डोईवाला। ये बात बेहद चौकाने वाली है कि डोईवाला जैसी आदर्श विधानसभा में भी ऐसा पहाड़ी क्षेत्र है जहां अब तक पक्की सड़क नहीं पहुंच पाई है।

 

जिस कारण डोईवाला के इस पहाड़ी क्षेत्रों से लोग पलायन करने को मजबूर हैं। मार्ग नहीं होने के कारण डोईवाला के इस पहाड़ी क्षेत्र में कई गांव हैं। जहां दोपहिया वाहन भी मुश्किल से पहुंच पाता है। राजीव गांधी पंचायत राज संगठन के प्रदेश संयोजक ने लड़वाकोट ग्राम सभा मे धारकोट से हलद्वाडी व लड़वाकोट मोटर मार्ग के संबंध में ग्रामीणों व गश्त कर रहे वन बीट अधिकारियों के साथ बैठक करके क्षेत्रीय समस्याओं पर चर्चा की।

प्रदेश संयोजक मोहित उनियाल ने कहा कि धारकोट से लड़वाकोट व हलद्वाडी मोटर मार्ग क्षतिग्रस्त व कच्चा होने के कारण ग्रामीणों को बहुत मुश्किलों का सामना करना पड़ रहा है। जिस कारण हर समय दुर्घटना का भय बना रहता है । गांव के किसानों व ग्रामीणों को अपनी उपज को मंडियों तक पहुंचाने के लिए कई किमी का सफर तय करना पड़ रहा है। शासन-प्रशासन की उपेक्षा के चलते ग्रामीण पलायन को मजबूर हैं।

 

बावजूद इसके ग्रामीणों की सुनवाई नहीं हो पा रही है। थानों से धारकोट के लिए आठ किमी मार्ग पक्का है। उससे आगे कई वर्ष पहले लोनिवि ने धारकोट से लड़वाकोट तक तीन किमी सड़क मार्ग निर्माण के लिए कटिंग की थी। लेकिन उसके बाद अब तक मार्ग का जीर्णोद्धार नहीं हो पाया है। कच्ची सड़क होने के कारण इन ग्राम सभाओं में अखबार तक भी नही पहुंच पाता है। सिर्फ इंटरनेट व टेलीविज़न से ही क्षेत्रीय खबरें इन ग्रामीणों तक पहुंचती है।

ये भी पढ़ें:  40 करोड़ से अधिक की लागत से होगा उत्तराखंड के तीन रेलवे स्टेशनों का पुनर्विकास, रेलवे स्टेशन के पुनर्विकास शिलान्यास समारोह में वर्चुअल रूप से सीएम ने किया प्रतिभाग

 

उनियाल ने कहा कि आरक्षित वन क्षेत्र होने के कारण सड़क निर्माण में देरी हो रही है। उनकी राज्य सरकार से मांग है कि इस क्षेत्र में मोटर मार्गों का निर्माण जल्द करवाया जाए। जिससे ग्रामीणों को समस्या से जल्द से जल्द समस्या से निजात मिल सके। मौके पर वन बीट अधिकारी पदमानन्द भट्ट, ब्रजमोहन सिंह, कीर्ति सिंह कंडारी ,नीरज कंडारी, बृजेश कुमार, आदर्श, प्रेम सिंह, बीर सिंह, आदि ग्रामीण मौजूद रहे।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button