अपराधउत्तराखंडदेहरादून

“टाइल्स रोड़” के बेस में बड़ा खेल, अधिकारी और ठेकेदार मिलकर कर रहे घपला

खबर को सुने

नियमों की अनदेखी कर कमजोर बेस तैयार कर बनाए जा रहे हैं टाइल्स मार्ग

डोईवाला। डोईवाला क्षेत्र में टाइल्स रोड़ बनाने में संबधित अधिकारी और ठेकेदार मिलकर बड़ा खेल कर रहे हैं।

टाइल्स मार्ग के बेस को नदी की बजरी और मिट्टी से तैयार कर टाइल्स लगाई जा रही हैं। जिससे कुछ ही समय बाद टाइल्स मार्ग टुटकर खराब हो जाएगा। जबकि नियमानुसार कटे हुए पत्थर की एक पतर बिछाकर उसके ऊपर स्टोन क्रशर की कटी हुई ग्रिट बिछाकर टाइल्स लगाई जानी चाहिए। ऐसा करने से टाइल्स को मजबूत बेस मिलता है। जिससे टाइल्स मार्ग सालों साल तक चल सकता है। मार्ग में लगाई जाने वाली टाइल्स एम 40 ग्रेड और मोटाई 80 एमएम की होनी चाहिए।

वर्तमान में सीसी सड़कों के स्थान पर इंटरलॉकिंग टाइल्स की सड़कें-रास्ते आदि बनाने का कार्य किया जा रहा है। सीसी मार्ग को बनाने के बाद मार्ग को कुछ समय के लिए बंद करना पड़ता था। वहीं सीसी मार्ग की तराई आदि भी करनी पड़ती थी। जिस कारण कई समस्याएं आ रही थी।

इसलिए अब ज्यादातर नगर क्षेत्र या ग्रामीण क्षेत्रों में सीसी मार्ग के स्थान पर टाइल्स मार्ग को प्राथमिकता दी जा रही है। और टाइल्स रोड़ के टेंडर भी निकाले गए हैं। विभागीय जेई, एई, ठेकेदार आदि मिलकर टाइल्स मार्ग के निर्माण में अनियमितता बरतकर मोटा मुनाफा कमा रहे हैं। नदी की बजरी और मिट्टी बिछाकर सीधे उसके ऊपर टाइल्स लगाई जा रही हैं। जिस कारण जानकार टाइल्स मार्ग की गुणवत्ता पर सवाल उठा रहे हैं। इससे काफी पैसे की बर्बादी हो रही है। और संबधित अधिकारियों और ठेकेदारों की मोटी कमाई हो रही है। यदि मार्ग के स्टीमेट आदि की मौके पर जाकर मार्ग की जांच की जाए तो असलियत सामने आ सकती है।

लोगों की ये भी मांग है कि किसी भी मार्ग को बनाने से पहले उस स्थान पर संबधित विभाग को बोर्ड लगाना चाहिए। जिसमें उसे मार्ग से संबधित सभी सही जानकारी अंकित की जानी चाहिए। इससे स्थानीय लोगों को अधिकारियों और ठेकेदार से कार्य करवाने में आसानी रहेगी। और मार्ग की गुणवत्ता में भी सुधार आएगा।

लोनिवी द्वारा बनाया जा रहा भोगपुर-बागी मार्ग।

भोगपुर-बागी टाइल्स मार्ग में गुणवत्ता ताक पर रखी

डोईवाला। लोक निर्माण विभाग भोगपुर से लेकर बागी तक लगभग पांच सौ मीटर लंबा और लगभग साढे तीन मीटर चौड़ा टाइल्स मार्ग का निर्माण कर रहा है। मार्ग के बेस/बेड को जाखन नदी की बजरी और मिट्टी से तैयार किया जा रहा है। जबकि इसमें कटे हुए पत्थर 63/53 एमएम की एक परत और फिर उसके ऊपर 40 एमएम स्टोन क्रशर की कटी हुई ग्रिट में सेंड मिक्स करके उसका फाइनल बेस रोलर चलवाकर तैयार किया जाना चाहिए। लेकिन बजरी और मिट्टी का कमजोर बेस तैयार कर इस टाइल्स मार्ग को बनवाया जा रहा है। उधर बागी के प्रधान पति अजीत पाल ने कहा कि मार्ग में गड़बड़ी की फिलहाल कोई जानकारी उनके पास नहीं है।

इन्होंने कहा

भोगपुर-बागी टाइल्स मार्ग को नियमानुसार ही बनाया जा रहा है। जिसे मार्ग की गुणवत्ता पर कोई संदेह हो तो वो जांच करवा सकता है। ओमप्रकाश, जेई लोनिवी

मार्ग में जो कमियां थी उन्हे दूर करने को कहा गया है। यदि फिर भी कोई कमी पाई गई तो उसे ठीक किया जाएगा। दिनेश सिंधवाल एई लोनिवी।

Related Articles

28 Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button
error: Content is protected !!