उत्तराखंडएक्सक्यूसिवदेशदेहरादूनधर्म कर्मपर्यटनमौसमराज्य

अनूठी पहल: रानीपोखरी में रक्षासुत्र बांध, केक काटकर पौधों का पहला जन्मदिवस मनाया

Listen to this article

Dehradun. नागाघेर, शांतिनगर में पिछले वर्ष हरेला पर्व के दौरान लगाए गए पीपल व बरगद के पौधों का सभी स्थानीय ग्रामीणों के साथ केक काट कर व पेड पर रक्षासूत्र बाँधकर जन्मोत्सव मनाया।

भाजपा के पूर्व जिलामंत्री सुबोध जायसवाल के नेतृत्व में स्थानीय लोगों ने पौधों को रक्षासुत्र बांधकर पर्यावरण बचाने का संकल्प लिया। कहा कि पेड लगाना मात्र दिखावा नहीं होना चाहिए। पेड़ों को लगाने के बाद उसकी देखरेख व सुरक्षा भी करनी चाहिए।

ताकि वास्तव में उत्तराखण्ड का यह पर्व धरातल पर उतर सके। ज्यादा से ज्यादा पेड न लगाकर पर्यावरण को बचाया जाना चाहिए। जिस तरह से प्रदूषण बढ रहा है उसी अनुपात में पौधों का बड़ा करना सभी नागरिकों की जिम्मेदारी होनी चाहिए।

 

यदि प्रत्येक व्यक्ति हर वर्ष पौधा लगाकर उसे बड़ा होने तक उसकी देखभाल करता है तो तभी हरेला पर्व का उद्देश्य पूरा होगा। अक्सर देखा जाता है कि लोग पौधों तो बहुत लगाते हैं। लेकिन उनकी देखभाल नहीं कर पाते हैं। जिस कारण पौधा सूखकर नष्ट हो जाता है।

कार्यक्रम में सुबोध जायसवाल, युद्धवीर शाही, श्यामलाल, टीटू, दीपचन्द, सुनील, जितेन्द्र, सुनीता देवी, कल्पना, प्रीती कुडीयाल, सोनू, सीनू, मायादेवी देवी, रेखा, ऋषिपाल, धनसिंह नेगी, सुरेश कुमार आदि उपस्थित रहे।

Related Articles

Back to top button
error: Content is protected !!