उत्तराखंड

उत्तराखंड में लगेंगे 700 रक्तदान शिविर, रक्तदान एवं अंगदान के लिये कराया जायेगा पंजीकरण

देहरादून । आयुष्मान भव अभियान के अंतर्गत प्रदेशभर में 700 रक्तदान शिविरों का आयोजन किया जायेगा। प्रत्येक विधानसभा क्षेत्र में 10-10 शिविरों का आयोजन होगा जिनमें स्वयंसेवी संस्थाएं, एनएसएस, रेडक्रॉस सुसाइटी, स्काउट्स-गाइड्स एवं रोवर रेंजर्स के साथ ही स्वास्थ्य, शिक्षा, शहरी विकास, पंचायतीराज, महिला सशक्तिरण एवं बाल विकास विभाग सहित स्थानीय जनप्रतिनिधि प्रतिभाग करेंगे। इन शिविरों में स्वैच्छिक रक्तदान के साथ ही रक्तदान हेतु पंजीकरण, अंगदान एवं देहदान के लिये भी पंजीकरण कराया जायेगा। जबकि राजकीय संयुक्त चिकित्सालयों व आयुष्मान हेल्थ एंड वेलनेस सेंटर्स में साप्ताहिक स्वास्थ्य मेलों का आयोजन किया जायेगा जहां पर चिकित्सकों द्वारा स्थानीय लोगों का स्वास्थ्य परीक्षण के साथ ही गैर संचारी रोंगों की भी जांच की जायेगी। आयुष्मान भव अभियान के दौरान आयुष्मान आपके द्वारा कार्यक्रम के तहत प्रत्येक व्यक्ति का आयुष्मान कार्ड एवं आभा आईडी बनाई जायेगी। जिन ग्राम सभाओं एवं शहरी वार्डों में शतप्रतिशत आयुष्मान कार्ड बन जायेंगे उन्हें भारत सरकार द्वारा क्रमशः आयुष्मान ग्राम व आयुष्मान शहारी वार्ड घोषित किया जायेगा।

यह बात सूबे के चिकित्सा स्वास्थ्य एवं चिकित्सा शिक्षा मंत्री डॉ. धन सिंह रावत ने आयुष्मान भव अभियान के शुभारम्भ अवसर पर राजभवन देहरादून में आयोजित कार्यक्रम में कही। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री के जन्मदिन 17 सितम्बर 2023 से गांधी जयंती 02 अक्टूबर 2023 तक प्रदेशभर में सेवा पखवाड़ा आयोजित किया जायेगा। जिसमें आयुष्मान भव अभियान, स्वच्छ भारत अभियान, रक्तदान अभियान एवं अंगदान शपथ कार्यक्रम आयोजित किये जायेंगे। जबकि आयुष्मान भव अभियान के अंतर्गत 31 दिसम्बर तक आयुष्मान आपके द्वार 3.0 कार्यक्रम के तहत प्रत्येक व्यक्ति का आयुष्मान कार्ड एवं आभा आईडी बनाई जायेगी। इसी प्रकार आयुष्मान हेल्थ एंड वेलनेस सेंटर्स एवं राजकीय संयुक्त चिकित्सालयों पर साप्ताहिक स्वाथ्य मेलों का आयोजन किया जायेगा। जिसमें हेल्थ एंड वेलनेस सेंटर्स पर स्वास्थ्य विभाग द्वारा स्थानीय लोगों का स्वास्थ्य परीक्षण एवं गैर संचारी रोगों की जांच की जायेगी। इसी प्रकार राजकीय संयुक्त चिकित्सालयों पर आयोजित स्वास्थ्य मेलों में राजकीय मेडिकल कॉलेजों के विशेषज्ञ चिकित्सकों द्वारा स्वास्थ्य परीक्षण एवं गैर संचारी रोगों की जांच की जायेगी। इसी क्रम में 02 अक्टूबर को ग्राम सभाओं एवं शहरी वार्डों में आयुष्मान सभाओं का आयोजन किया जायेगा। जिसमें आम लोगों की जांच के साथ ही आयुष्मान कार्ड वितरित किये जायेंगे तथा रक्तदान शिविर का भी आयोजन होगा। विभागीय मंत्री ने बताया कि अगले तीन माह में प्रदेश की प्रत्येक विधानसभा क्षेत्र के अंतर्गत 10-10 रक्तदान शिविरों का आयोजन किया जायेगा। जिनमें आवश्यकतानुसार एवं राज्य की रक्त भण्डारण क्षमता के अनुरूप स्वैच्छिक रक्तदान व रक्तदान हेतु पंजीकरण का कार्यक्रम चलाया जायेगा। इसके अलावा शिविर में अंगदान एवं देहदान हेतु लोगों को जागरूक करते हुये उन्हें अंगदान एवं देहदान की शपथ दिलाई जायेगी। आयुष्मान भव अभियान से जुड़े कार्यक्रमों को सफल बनाने के लिये स्थानीय स्तर पर सांसद, क्षेत्रीय विधायक, जिला पंचायत अध्यक्ष, मेयर, निकायों के अध्यक्ष, ब्लॉक प्रमुख सहित स्थानीय जनप्रतिनिधि बढ़चढ़ कर प्रतिभाग करेंगे।

ये भी पढ़ें:  हल्द्वानी मे UP के सीएम योगी ने किया जनसभा को संबोधित, बोले – देश की समस्याओं का नाम कांग्रेस

सूबे में अंगदान व देहदान के प्रति बढ़ी जागरूकता

स्वास्थ्य मंत्री डॉ. धन सिंह रावत ने बताया कि राज्य में अब तक 51 लाख 91 हजार लोगों के आयुष्मान कार्ड बनाये जा चुके हैं। जिनमें से 6 लाख 61 हजार लोगों ने आयुष्मान योजना का लाभ उठा कर विभिन्न पंजीकृत अस्पतालों में निःशुल्क उपचार कराया, जिस पर राज्य सरकार ने अबतक 1623 करोड़ रूपये खर्च कर दिये हैं। डॉ. रावत ने बताया कि प्रदेश में अंगदान एवं देहदान के लिये लोगों में जागरूकता बढ़ी है। जिसका नतीजा है कि सूबे में अब तक 1200 से अधिक लोगों ने अंगदान एवं देहदान के लिये अपना शपथपत्र भरा है।

Related Articles

Back to top button