उत्तराखंडदेहरादूनराज्यस्वास्थ्य और शिक्षा

उपलब्धि: डोईवाला में कम गन्ना पेराई कर अधिक चीनी उत्पादन

Listen to this article

डोईवाला। डोईवाला चीनी मिल में इस वर्ष कम गन्ना पेराई के बावजूद अधिक चीनी के बोरो का उत्पादन किया गया है।

पिछले पेराई सत्र में डोईवाला में 8, 71800 कुंतल गन्ने की पेराई के बाद कुल 73, 380

चीनी के बोरे बनाए गए थे। जबकि इस पेराई सत्र में अब तक 862700 कुंतल गन्ना पेराई के

बावजूद कुल 76900 चीनी के बोरे चीनी उत्पादन किया जा चुका है।

चीनी मिल में किए कई सुधार

डोईवाला। चीनी मिल डोईवाला में पिछले कई वर्षों की अपेक्षा इस वर्ष पेराई कार्य मिल की

क्षमता के अनुरूप होने से क्षेत्र के कृषक काफी खुश हैं।

विगत वर्षों में मिल में गन्ना लेकर आने वाले कृषकों को गन्ना तौल करवाने व तौल करवाने

के पश्चत बुग्गी / ट्राली से गन्ना खाली करवाने के लिए 24 घण्टे से 48 घण्टे तक इन्तजार करना

पड़ता था। बरसात के मौसम में कृषकों के लिए कोई विश्राम गृह की व्यवस्था न होने से यार्ड में

अत्याधिक कीचड़ होने, स्वच्छ पेयजल का अभाव व शौचालय इत्यादि की व्यवस्था न होने

के कारण कृषकों को अक्सर परेशानी का सामना करना पड़ता था। बीते 31 अगस्त को

चीनी मिल के नए अधिशासी निदेशक डीपी सिंह द्वारा द पदभार ग्रहण किया।

गया था तभी से वे अन्य और योजनाबद्ध तरीके से मिल में कई सुधार किए। जिसके फलस्वरूप

पेराई सत्र प्रारम्भ होने से पूर्व मिल में विश्राम गृह, पक्का केन यार्ड, स्वच्छ पेयजल, शौचालय,

कैन्टीन इत्यादि व्यवस्था करवायी गई। वहीं इस वर्ष मिल की क्षमता के अनुरूप गन्ना पेराई होने

से क्षेत्र के कृषकगण कुछ ही घण्टों में अपनी ट्रैक्टर – बुग्गी / ट्राली से गन्ना खाली करवाकर

समय से अपने घर पहुँच रहे हैं। क्रय केन्द्रों से गन्ना परिवहन करने वाले ठेकेदार भी काफी

संतुष्ट हैं। जिस कारण मिल को ताजा गन्ना प्राप्त हो रहा है। ट्रकों के जाम से परेशान रहने

वाली डोईवाला की जनता व व्यापारी भी काफी खुश हैं। अधिशासी निदेशक द्वारा मिल में इस

वर्ष सी०सी०टी०वी० कैमरे लगवाए गए हैं। जिनके द्वारा महत्वपूर्ण स्टेशनों की प्रभावी

मॉनिटरिंग व मिल की सुरक्षा पर पैनी नजर रखी जा रही है।

वहीं लापरवाही करने वाले एक पंपमैन व तीन तोल क्लर्क सस्पेंड किये जा चुके हैं।

दूसरी चीनी मिलों को पीछे छोड़ा

डोईवाला। इस सीजन में चीनी मिल बाजपुर में 86.45 घण्टे, नादेही में 208.29 घण्टे, किच्छा

में 138.30 घण्टे और सितारगंज में 124.45 घण्टे की मिल बन्दी हो चुकी है। जबकि अभी

तक डोईवाला चीनी मिल में मात्र 4 घण्टे की मिल बन्दी हुई है। डोईवाला चीनी मिल में इस

वर्ष मिल की पेराई क्षमता उपयोग 95.86% है वहीं चीनी मिल बाजपुर में 78.67%, नादेही में

88.13%, किच्छा में 76.36% तथा सितारगंज में 7543% है। जिसका परिणाम यह है कि

चीनी मिल डोईवाला में विगत सीजन 2021-22 प्रारम्भ होने की तिथि से 39 दिन में कुल

8,71,800 कुन्तल गन्ना पेराई कर मिल में 73,380 कुन्तल चीनी का उत्पादन किया गया था।

वहीं इस वर्ष सीजन 2022-23 प्रारम्भ होने की तिथि से 36 दिन में 8,62,700 कुन्तल गन्ना

पेराई कर 76,900 कुन्तल चीनी का उत्पादन किया गया है। इस प्रकार पिछले सीजन की

अपेक्षा 03 दिन पहले 9,100 कुन्तल कम गन्ना पेराई कर 3,520 कुन्तल अधिक चीनी का उत्पादन किया गया है।

Related Articles

Back to top button
error: Content is protected !!