अपराधउत्तराखंडएक्सक्यूसिवदेशदेहरादूनधर्म कर्मपर्यटनराज्यविदेश

Dehradun Airport पर आए दिन हो रही हैं बर्ड हिट की घटनाएं, कभी भी हो सकता है बड़ा हादसा

देहरादून एयरपोर्ट के आसपास मंडरा रहे हैं पक्षी, कहीं कचराघर तो कहीं है मीट की दुकानेंं

Listen to this article

Dehradun. देहरादून के जौलीग्रांट एयरपोर्ट पर बर्ड हिट की घटनाएं बढती जा रही हैं। जिससे यहां कभी भी कोई बड़ा हादसा हो सकता है।

रनवे के आसपास और बाहर आसमान में पक्षियों के झुंड को मंडराते हुए देखा जा सकता है। जिससे जौलीग्रांट एयरपोर्ट पर टेक ऑफ या लैंडिंग के समय हादसे का डर बना हुआ है। जौलीग्रांट एयरपोर्ट पर महीने में कम से कम एक बार प्लेन से पक्षियों के टकराने की घटनाएं होने लगी हैं। एयरपोर्ट के रनवे पर तो सुरक्षा गार्ड विमानों की लैंडिंग और टेक ऑफ से पहले विभिन्न उपकरणों से पटाखे आदि की आवाज निकालकर पक्षियों को भगा देते हैं।

लेकिन कुछ देर बाद पक्षी फिर से वापस आ जाते हैं। वहीं रनवे के बाहर आसपास के क्षेत्र में खासकर सौंग नदी के पुल के ऊपर अक्सर पक्षियों का जमावड़ा देखा जाता है। यह वो क्षेत्र है जहां पर सभी विमान लैंडिंग और टेक ऑफ के समय काफी नीचे होते हैं। और अक्सर पक्षी विमान से टकरा जाते हैं।

रनवे पर विमानों से पक्षी टकराने की घटनाएं जो एयरपोर्ट के अंदर होती हैं। उनका संज्ञान लेकर एयरपोर्ट प्रशासन एएआई दिल्ली को इसकी रिपोर्ट करता है। जबकि कई बार पायलट भी एयरपोर्ट प्रशासन को पक्षियों के टकराने की सूचना देते हैं। इसकी रिपोर्ट भी दिल्ली एएआई को की जाती है। एयरपोर्ट पर हर तीन माह में प्रशासन द्वारा एनवायरमेंट कमेटी की बैठक होती है।

जिसमें एयरपोर्ट प्रशासन द्वारा एयरपोर्ट के सराउंडिंग एरिया में कचराघर, मीट की दुकानों आदि का मुद्दा उठाया जाता है। लेकिन इस पर अभी तक ध्यान नहीं दिया गया है। एयरपोर्ट के आसपास कई मीट की दुकानें धडल्ले से खुली हुई हैं। वहीं हाट बाजारों में खुले में मांस की बिक्री की जात रही है।

विमान के साथ पक्षी भी भरते हैं उड़ान

Dehradun. जौलीग्रांट एयरपोर्ट पर सुबह से शाम तक बर्ड हिट का खतरा बना हुआ है। मांसाहारी और दूसरे पक्षी एयरपोर्ट पर विमानों के आने जाने के समय उड़ते रहते हैं। मीट की दुकानें ही नहीं कचराघर के कारण भी पक्षी आसमान में मंडराते हैं। डोईवाला सौंग पुल पर लोग रात के अंधेरे में कूड़ा सौंग नदी में फेंक देते हैं।

जिससे आसमान में पक्षी मंडराते हैं। कचरा के बॉक्स के अंदर और बाहर भी लोगों द्वारा फेंके गए खाने-पीने की चीजों के कारण पक्षी आसमान में मंडराते हैं। सौंग पुल के पास तो आए दिन कई मरे जानवर भी फेंके हुए रहते हैं। जिस कारण मांसाहारी पक्षी आसमान में घूमते रहते हैं।

कुछ ही दिन पहले पटना एयरपोर्ट पर एक विमान से पक्षी टकराने के कारण टेक ऑफ के समय विमान में आग लग गई थी। जिसकी इमरजेंसी लैंडिंग करवानी पड़ी थी। यदि जौलीग्रांट एयरपोर्ट के आसपास इस चीज पर ध्यान नहीं दिया गया तो यहां भी कभी भी कोई बड़ा हादसा हो सकता है।

इन्होंने कहा

एयरपोर्ट पर बर्ड हिट की काफी घटनाएं हो चुकी हैं। एयरपोर्ट पर हर तीन महीने में होने वाली एनवायरमेंट कमेटी की बैठक में इस मुद्दे को उठाया जा चुका है। बैठक में कहा गया है कि कचरा उठाने वाली गाड़ी द्वारा रोज एलाउंसमेंट करवाया जाए कि लोग खुले में कचरा न फेंके। प्रभाकर मिश्रा एयरपोर्ट निदेशक देहरादून।

Related Articles

Back to top button
error: Content is protected !!