उत्तराखंड

मुख्य सचिव ने केदारनाथ धाम पहुंचकर लिया यात्रा तैयारियों का जायजा

देहरादून। लोकसभा चुनाव निपटते ही अब शासन-प्रशासन चार धाम यात्रा की तैयारियों में जुट गया है। क्योंकि यात्रा शुरू होने में महज कुछ समय ही शेष बचा है। चुनाव के कारण अधूरी पड़ी तैयारियों को समय से पूरा करने की चुनौती शासन-प्रशासन के सामने है। मुख्य सचिव राधा रतूड़ी आज यात्रा की तैयारियों को परखने के लिए खुद केदार धाम पहुंची और अधिकारियों को जरूरी दिशा निर्देश दिए।

10 मई से शुरू होने जा रही चार धाम यात्रा के लिए 15 अप्रैल से ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन शुरू हो चुके हैं। अभी सिर्फ एक सप्ताह का ही समय रजिस्ट्रेशन शुरू किये हुआ है लेकिन यात्रियों का उत्साह चरम पर है अब तक 12.5 लाख से अधिक यात्री अपना रजिस्ट्रेशन करा चुके हैं। जिसमें केदारनाथ जाने वाले यात्रियों की संख्या सबसे अधिक 4.25 लाख है वहीं इसके बाद बद्रीनाथ जाने के लिए 3.50 लाख यात्री अपना रजिस्ट्रेशन करा चुके हैं। जहां तक बात गंगोत्री व यमुनोत्री के यात्रियों के रजिस्ट्रेशन की है तो वह भी 2कृ2 लाख के ऊपर है। हेली सेवा की बात करें तो केदारनाथ के लिए जून तक हेली सेवा बुकिंग फुल हो चुकी है।

मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी का कहना है कि उनकी सरकार सुगम और सुरक्षित यात्रा कराने के लिए प्रतिबद्ध है। उनका कहना है कि यह सुखद बात है कि चार धाम यात्रियों की संख्या में साल दर साल वृद्धि हो रही है। मुख्यमंत्री धामी ने पहले ही अपने दो मंत्रियों को केदार व बद्रीनाथ धाम की तैयारियों की जिम्मेदारी सौंपी जा चुकी है। कल स्वास्थ्य मंत्री धन सिंह रावत ने सभी सीएमओ की बैठक कर स्वास्थ्य सेवाएं दुरुस्त करने के निर्देश दिए थे। मुख्य सचिव राधा रतूड़ी ने आज केदार धाम जाकर तैयारियों का जायजा लिया व रास्ते से बर्फ हटाए जाने और यात्रा मार्ग पर अन्य यात्री सुविधाएं यथा शीघ्र दुरुस्त करने के निर्देश दिए। सड़क, बिजली, पानी व रहने खाने से लेकर यात्रियों के स्वास्थ्य परीक्षण केंद्र तक की उन्होंने जानकारी ली। इस साल चार धाम यात्रा पर पहले से भी अधिक यात्रियों के आने की संभावना है लेकिन तैयारियां अभी तक बेहतर व पूर्ण नहीं हो सकी है ऊपर से राज्य में खराब मौसम भी बाधा डाल रहा है।

ये भी पढ़ें:  कृषि मंत्री ने वन्य जीवों से फसल क्षति की समस्या के निराकरण को लेकर अधिकारियों को ठोस नीति बनाने के दिए निर्देश

Related Articles

Back to top button
error: Content is protected !!