उत्तराखंडदेहरादूनराजनीति

ऑलवेदर रोड परियोजना हिमालयी पर्यावरण के लिए खतरा: कांग्रेस

Listen to this article

डोईवाला। कांग्रेस का कहना है कि ऑलवेदर रोड से हिमालयी पर्यावरण को गंभीर खतरा है। इससे भविष्य में कई खतरे सामने आएंगे।

राजीव गांधी पंचायत राज संगठन की टीम द्वारा श्री बद्रीनाथ हाईवे पर ऑल वेदर रोड प्रोजेक्ट से पहाड़ों तथा आसपास के पर्यावरण को हो रहे नुकसान को जाकर देखा। और कहा कि पर्यावरण प्रभाव आकलन अधिसूचना 2020 (ईआईए) को उत्तराखंड जैसे पर्वतीय राज्यों के पर्यावरणीय हितों के खिलाफ है। संगठन के प्रदेश संयोजक मोहित उनियाल ने कहा कि ईआईए, 2006 में बदलाव करने के लिए लाई गई ये नई अधिसूचना पर्यावरण विरोधी है। जिसमें जनता की राय नहीं ली गई है।

ईआईए अधिसूचना, 2020 ने उन कंपनियों या उद्योगों को भी क्लीयरेंस प्राप्त करने का मौका दिया है जिसने पहले कभी पर्यावरण नियमों का पालन नहीं किया है। ईआईए अधिसूचना लागू होने के बाद यदि किसी कंपनी ने पर्यावरण मंजूरी नहीं ली है तो वो 2,000-10,000 रुपये प्रतिदिन के आधार पर फाइन जमा कर के मंजूरी ले सकती है। कहा कि ऑलवेदर रोड बनाने के लिए हज़ारों पेड़ व कई जगह पहाड़ को काटा गया है। 12 हज़ार करोड़ के प्रोजेक्ट में मार्ग में अभी तक करीब 175 जगह पहाड़ काटा गया है।

जिससे 100 से ज्यादा जगह भूस्खलन क्षेत्र बन चुके हैं। उधर कर्णप्रयाग रेल मार्ग के लिए सुरंग बनाने के लिए जोरदार धमाके किये जा रहे हैं। जिससे कच्चे पहाड़ पूरी तरह हिल रहे हैं। जिससे मौजूदा पानी के प्राकृतिक स्रोत भी खतरे में हैं। इस दौरान ब्रिज मोहन, सुनील, राहुल सैनी, हर्षित उनियाल व शुभम काम्बोज आदि उपस्थित रहे।

Related Articles

Back to top button
error: Content is protected !!