अपराधउत्तराखंडएक्सक्यूसिवदेशदेहरादूनधर्म कर्मपर्यटनमौसम

breaking: उत्तराखंड में गठित हुई फ्लड कंपनी, प्रशिक्षित तीस जवानों को राज्य के आठ स्थानों में किया तैनात

जवानों को दिया गया 42 दिनों का कड़ा प्रशिक्षण

उत्तराखंड। प्रदेश में जलीय आपदाओं को देखते हुए अब फ्लड कंपनी का गठन किया गया है। यह कंपनी जलीय आपदाओं में रेस्क्यू करेगी।

 

जलीय आपदा और दुर्घटनाओं की अप्रत्याशित रूप से बढ़ती संख्या कों देखते हुए और राज्य में बीते माह अक्टूबर में आई आपदा के उपरान्त पुलिस महानिदेशक उत्तराखण्ड,  अशोक कुमार द्वारा SDRF में पूर्व से गठित फ्लड रिलीफ टीम की कार्यक्षमता को बढ़ाने हेतु पुलिस की ही अन्य इकाईयों से कुशल कर्मियों को चयनित कर दूसरी फ्लड रिलीफ कंपनी को गठित करने का निर्णय लिया गया था।

 

जलीय आपदा में प्रतिवादन करने हेतु वर्तमान में एसडीआरएफ की एक विशेषज्ञ फ्लड रिलीफ टीम द्वारा गंगा, यमुना, काली नदी, टौंस, टिहरी झील सहित अनेक स्थानीय नदियों में सैंकड़ों रेस्क्यू ऑपरेशनस किये गए है।

 

पुलिस महानिदेशक अशोक कुमार के दिशानिर्देशन व मणिकांत मिश्रा, सेनानायक SDRF के पर्यवेक्षण में दिनाँक 03 मार्च 2022 से फ्लड कंपनी हेतु चयनित 30 अभ्यर्थियों को वाहिनी मुख्यालय जॉलीग्रांट में 42 दिवसीय बेसिक फर्स्ट रेस्पांडर कोर्स के साथ-साथ एडवांस राफ्टिंग कोर्स, लाइफ सेविंग कोर्स, मोटर बोट हैंडलिंग प्रशिक्षण व डीप डाइविंग प्रशिक्षण कराया गया।

 

42 दिवसीय प्रशिक्षण के उपरांत प्रशिक्षित जवान SDRF की फ्लड कंपनी में सम्मिलित हो गए है। जलीय आपदा/दुर्घटना संभावित व संवेदनशीलता के आधार राज्य भर के 08 स्थानों ढालवाला, कोटि कॉलोनी, डाकपत्थर, लक्सर, चिन्यालीसौड़, नैनीताल, 31bn. PAC, रुद्रपुर व टनकपुर में SDRF फ्लड कंपनी की टीमों को आधुनिक उपकरणों के साथ व्यवस्थापित किया गया है।

ये भी पढ़ें:  सेवानिवृत्त प्रधानाचार्यों, शिक्षकों एवं कर्मचारियों ने ली कांग्रेस की प्राथमिक सदस्यता

Related Articles

Back to top button
error: Content is protected !!