अपराधउत्तराखंडएक्सक्यूसिवदेशदेहरादूनराज्य

वन विभाग ने की तीन खैर तश्करों की पहचान, गिरफ्तारी को टीम गठित

Listen to this article

डोईवाला। बड़कोट और लच्छीवाला वन विभाग ने खैर तश्करों की पहचान करते हुए नामजद रिपोर्ट दर्ज की है।

इसमें वन अधिनियम और पुलिस की संबधित धाराओं में मुकदमा दर्ज किया गया है। मुकदमा दर्ज करने के बाद संयुक्त टीम द्वारा तश्करों की धर-पकड़ के लिए कार्रवाई शुरू कर दी गई है। इसके लिए टीमों को रवाना कर दिया गया है।

वहीं लच्छीवाला वन रेंज में कटे पड़े हुए खैर के पेड़ों को जंगल से हटवाया जा रहा है। लच्छीवाला रेंज में हाल ही में जो दर्जनों खैर के पेड़ काटे गए हैं। उसमें से तश्कर कुछ पेड़ ही ले जा पाए हैं। बाकि माल वहीं पड़ा है। जिसे वन विभाग द्वारा वहां से हटवाया जा रहा है। इस मामले में बड़कोट और लच्छीवाला दोनों वन रेंजों में मुकदमा दर्ज किया गया है।

उल्लेखनीय है कि बृहस्पतिवार को बड़कोट और लच्छीवाला वन रेंज के जंगलों में दर्जनों खैर के काटे गए पेड़ों का फंडा फोड किया था। पेड़ कटने की जानकारी वन विभाग को भी नहीं थी। और मीडिया ने ही वन विभाग को पेड़ काटने की जानकारी दी। जिसके बाद से दोनों वन रेंजों में हड़कंप मचा हुआ है। खबर प्रकाशित होने के बाद ही वन महकमा हरकत में आया। और तश्करों की पहचान कर जुर्म काटा। अब वन विभाग आरोपियों को शीघ्र गिरफ्तार करने का दावा कर रहा है।

 

खबर ने फेरा तश्करों के मंसूबे पर पानी

डोईवाला। खैर के तश्कर बड़कोट वन रेंज से करीब आधा दर्जन पेड़ काटकर ले गए थे। उसके बाद उन्होंने लच्छीवाला के जंगल में दर्जनों पेड़ों पर आरियां चलाई। और कुछ माल लेकर चले गए। बचा हुआ माल तश्कर ले जाते उससे पहले ही खैर के पेड़ कटने की खबर प्रकाशित हो गई। जिससे तश्कर लाखों की कीमत के कटे हुए पेड़ नहीं ले जा सके। और अब वन विभाग उस माल को अपने कब्जे में ले रहा है।

इन लोगों पर खैर के पेड़ काटने का है आरोप

डोईवाला। वन विभाग ने वन अधिनियम और पुलिस में खैर के पेड़ काटने के आरोप में मौसूम अली पुत्र शमरूद्दीन निवासी हलजौरा , सुलेमान पुत्र वहीद निवासी हलजौरा, गुड्डू पुत्र मुल्ला कामिक निवासी सिकरोड तीनों निवासी हरिद्वार के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया है।

फॉरेस्टर को किया संस्पेंड

लच्छीवाला वन रेंज से खैर के काटे गए पेड़ मामले में वन विभाग के आला अधिकारियों ने उस क्षेत्र के फॉरेस्टर दिपेंद्र असवाल को संस्पेंड कर ऋषिकेश अचेट कर दिया है। डीएफओ ने कहा कि खैर के पेड़ कटान मामले में फॉरेस्टर को संस्पेंड कर दिया गया है।

इन्होंने कहा

बड़कोट और लच्छीवाला वन रेंज से काटे गए पेड़ों के तश्कर एक ही हैं। जिनके खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया है। जबकि तश्कर लच्छीवाला से दस फीसदी माल ही ले जा सकें हैं। बाकि कटे पेड़ जंगल में ही हैं। जिन्हे वन विभाग अपने कब्जे में ले रहा है। नितिनमणी त्रिपाठी डीएफओ देहरादून।

ये भी पढ़ें:  लंदन दौरा ला रहा है सीएम धामी का रंग, आज चार हजार आठ सौ (4800) करोड़ के निवेश के हुए करार

Related Articles

Back to top button
error: Content is protected !!