उत्तराखंड

उत्तराखण्ड में जीएसटी की टीम ने फर्जी बिलों से करोड़ों का भुगतान प्राप्त करने वाली फर्म के खिलाफ की बड़ी कार्रवाई

देहरादून। उत्तराखण्ड में जीएसटी की टीम ने फर्जी बिलों से करोड़ों का भुगतान प्राप्त करने वाली फर्म के खिलाफ बड़ी कार्रवाई की है। इस दौरान फर्म का कोई दफ्तर तो नहीं मिला। लेकिन फर्म संचालक के घर पर जीएसटी की टीम ने छापा मारते हुए लाखों की गफबड़ी पकड़ी। इस दौरान करीब 30 लाख का टैक्स जमा कराया किया। जबकि लाखों रुपये अब ब्याज समेत वसूले जाने बाकी है। आयकर की इस कार्रवाई से फर्जी तरीके से चल रही फर्म संचालकों में हड़कंप मचा है।

उत्तराखण्ड में जीएसटी चोरी में लिप्त फर्म पर एसजीएसटी ने बड़ी कार्रवाई की है। टीम ने छापा मार कर लाखों रुपये टैक्स चोरी करने वाली एक फर्जी फर्म के खिलाफ कार्रवाई की है। विभाग को यह सूचना प्राप्त हो रही थी कि सरकारी विभागों से टेण्डर प्राप्त करने वाली कई फर्मे जी०एस०टी० चोरी के लिए फर्जी बिलों का प्रयोग कर रही हैं, जिसके क्रम में आयुक्त राज्य कर, उत्तराखण्ड द्वारा दिये गये निर्देशों के क्रम में आज राज्य कर विभाग द्वारा प्रचार सामग्री की सप्लाई करने वाली दून यूनिवर्सिटी रोड़, देहरादून स्थित एक फर्म के स्वामी के घोषित व्यापार स्थल एवं घर की सहायक आयुक्त मनमोहन असवाल एवं टीका राम चन्याल की टीम ने जांच की।

जांच पर यह पाया गया कि फर्म ने सूचना एवं लोक सम्पर्क विभाग, उत्तराखण्ड से लगभग ₹ 18 करोड़ का भुगतान प्राप्त किया है तथा उसके द्वारा जीएसटी चोरी के उद्देश्य से दिल्ली की कुछ फर्मों से बोगस इन्वाईस प्राप्त किये गये हैं। इन फर्मों के पास बेचे गये माल की न तो खरीद थी और न ही माल के परिवहन का कोई प्रमाण था।गोपनीय जांच एवं डाटा एनालिसिस पर यह भी पाया गया कि ये बोगस फर्मे टायर की खरीद अस्तित्वहीन फर्मों से दिखा रही थी और आगे देहरादून की फर्म को पेण्टिंग, फ्लैक्स की बिक्री दिखा रही थी। प्रथम दृष्ट्या लगभग 1.65 करोड़ की टैक्स चोरी का मामला प्रकाश में आया है।

ये भी पढ़ें:  लोकसभा चुनाव 2024 : विधानसभावार जानिए मतदान प्रतिशत..

फर्म के घोषित व्यापार स्थल पर कोई काम होता नहीं पाया गया। फर्म स्वामी द्वारा घर पर जांच के दौरान ₹ 33.20 लाख रूपये जमा कराये गये हैं। बाकी टैक्स की ब्याज सहित वसूली के लिए कार्यवाही की जा रही है। राज्य कर विभाग की विशेष अनुसंधानशाखा, हरिद्वार द्वारा भी जी०एस०टी० चोरी कर रही फर्मों पर छापेमारी की कार्यवाही करते हुये ₹20 लाख रूपये जमा कराये गये हैं।

आयुक्त राज्य कर, उत्तराखण्ड द्वारा बोगस बिलिंग या फर्जी इनपुट का लाभ उठाकर कर चोरी करने वाली अन्य फर्मों को चिन्हित कर उनके विरूद्ध कड़ी कार्यवाही करने के निर्देश दिए गए है साथ ही आयुक्त कर द्वारा समस्त करदाताओं से यह भी अपील की गई है, कि वे समय से रिटर्न दाखिल करते हुये देय कर को जमा करें तथा यदि इस संबंध में कोई समस्या हो तो हेल्पलाइन नं0- 1800120122277 से सम्पर्क कर सकते हैं। जांच टीम में राज्य कर अधिकारी असद अहमद, अलीशा बिष्ट, ईशा,  गजेन्द्र सिंह भण्डारी, शैलेन्द्र चमोली एवं निरीक्षक हेमा पुण्डीर शामिल थे।

Related Articles

Back to top button
error: Content is protected !!