उत्तराखंडदेहरादूनराजनीति

प्रदेश की 759 समितियों में जैविक उर्वरकों को बढ़ावा देने की कवायद तेज

खबर को सुने

जैविक खेती के बढावे को केंद्र और राज्य मिलकर कर रहे काम

डोईवाला। रानीपोखरी साधन सहकारी समिति में कृषक भारती कॉपरेटिव समिति (कृभको) द्वारा जैविक उर्वरक एंव जैविक खेती विषय पर एक कार्यक्रम का आयोजन किया गया।

जिसमें मुख्य अतिथि के रूप में पहुंचे निबन्धक सहकारी समितियां उत्तराखण्ड आनन्द शुक्ला ने जैविक उर्वरक पर कहा कि जैविक खेती को बढ़ावा देने के केंद्र और राज्य सरकार सबसे ज्यादा बजट खर्च कर रही है।

सहकारी समिति रानीपोखरी में डिजिटलाइजेशन का जो कार्य पायलट प्रोजेक्ट के तौर पर शुरू किया गया था वो पूरे प्रदेश में लागू किया जा रहा है। सहायक निबन्धक सुभाष चन्द्र ने कहा कि प्रदेश की सभी 759 समितियों में जैविक उर्वरको को बढ़ावा देने के लिए प्रयास किये जाएंगे। इससे समितियों का कारोबार भी बढ़ाया जा सकेगा।

कृभको के राज्य मुख्य विपणन प्रबन्धक गजेंद्र ने कहा कि कृभको प्रदेश के अंदर अधिक से अधिक समितियों तक अपनी पँहुच बनाने का प्रयास कर रही है। निदेशक सहकारी बैंक देहरादून प्रेम पुण्डीर ने कहा कि किसान भाई रासायनिक उर्वरकों का प्रयोग कम से कम करके जैविक उर्वरको का प्रयोग करें ताकि खुद व आने वाली पीढ़ियों को बीमारियों से बचा सके। अध्य्क्ष सहकारी समिति भरत बिष्ट ने कहा कि समिति जैविक उर्वरको को अपनी समिति के माध्यम से किसान भाइयों को उपलब्ध कराएगी।

प्रधान सुधीर रतूड़ी ने कहा कि ग्राम स्तर और भी इस विषय पर जागरूकता अभियान चलाया जाएगा। इस अवसर पर समिति सचिव रिजवान, पूर्व प्रधान इंद्रपाल सिंह, बलराम बिष्ट, विनोद पूरी, संजय कृषाली, गंभीर बिष्ट, अबास अली, अमर सिंह, दुर्गा थापा, चाँद खा आदि कृषक मौजूद रहे।

 

Related Articles

4 Comments

  1. Very interesting info !Perfect just what I was looking for! “Neurotics build castles in the air, psychotics live in them. My mother cleans them.” by Rita Rudner.

  2. I really enjoy studying on this internet site, it has got superb blog posts. “Never fight an inanimate object.” by P. J. O’Rourke.

  3. You could certainly see your enthusiasm within the work you write. The sector hopes for even more passionate writers such as you who aren’t afraid to say how they believe. All the time follow your heart. “The most profound joy has more of gravity than of gaiety in it.” by Michel de Montaigne.

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button
error: Content is protected !!