उत्तराखंडदेहरादूनधर्म कर्मपर्यटनराजनीति

खुशखबरी: डोईवाला वासियों के लिए लच्छीवाला टोल टैक्स फ्री, लगवाना होगा फास्टैग 

Listen to this article

स्थानीय कामर्शियल वाहनों को भी मिलेगी छूट

मुख्यमंत्री के विशेष प्रयास से हुआ लोगों की समस्याओं का समाधान

Dehradun. मंगलवार का दिन डोईवाला वासियों के लिए बेहद खास रहा। मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत के विशेष प्रयास से देहरादून-हरिद्वार राष्ट्रीय राजमार्ग पर लच्छीवाला में लगाए गए टोल टैक्स को डोईवाला की जनता के लिए फ्री कर दिया गया है।

अब डोईवाला विधानसभा के प्राईवेट कार चालक लच्छीवाला में बिना टोल टैक्स दिए आवाजाही कर सकेंगे। वहीं स्थानीय कामर्शियल वाहनों को भी लगभग पचास फीसदी टोल में छूट मिलेगी। टोल टैक्स लिए जाने को लेकर विपक्षी दल कांग्रेस, यूकेडी, एयरपोर्ट टैक्सी यूनियन, सिटी बस यूनियन ने लच्छीवाला टोल बैरियर पर काफी दिनों से हंगामा काट रखा था।

और कांग्रेस इसे बड़ा मुद्दा बनाना चाहती थी। जिसके बाद स्थानीय भाजपाईयों के साथ भाजपा मंडल अध्यक्ष विनय कंडवाल और जिला उपाध्यक्ष विक्रम नेगी ने इस समस्या को मुख्यमंत्री तक पहुंचाया। और मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत के प्रयासों के बाद स्थानीय कार चालकों के लिए टोल को फ्री कर दिया गया है।

दर्जनों भाजपाईयों ने मंगलवार को भी इस मुद्दे को लेकर सीएम कार्यालय में मुख्यमंत्री के विशेष कार्यधिकारी धीरेंद्र पंवार से मुलाकात की। बातचीत के बाद लच्छीवाला टोल को स्थानीय जनता के लिए फ्री कर दिया गया है। जिससे भाजपाईयों और स्थानीय लोगों में काफी खुशी है।

मुख्यमंत्री के विशेष कार्याधिकारी धीरेंद्र पंवार ने कहा कि मुख्यमंत्री के प्रयासों से डोईवाला वासियों की समस्याओं को देखते हुए लच्छीवाला टोल टैक्स को फ्री कर दिया गया है। जिससे डोईवाला की जनता को लाभ मिलेगा। मौके पर मंडल अध्यक्ष विनय कंडवाल, विक्रम नेगी, नरेंद्र नेगी, राकेश डोभाल, ईश्वर रौथाण, मनमोहन नौटियाल, परमिंदर सिंह, दीपक आदि उपस्थित रहे।

लगवाना होगा फास्टैग

डोईवाला। स्थानीय लोगों को लच्छीवाला में फ्री टोल का लाभ लेने के लिए अपने वाहनों पर फास्टैग लगवाना होगा। जिसके बाद बैरियर अपने आप खुल जाएगा। और वाहन आगे बढ सकेंगे। इसके लिए स्थानीय कार चालकों को अपना डीएल, आधार कार्ड और वाहन की आरसी लेकर लच्छीवाला टोल बैरियर पर जाकर उसका रजिस्ट्रेशन करवाना होगा।

क्या है फास्टैग

फास्टैग इलेक्ट्रॉनिक टोल कलेक्शन तकनीक होती है। इसमें रेडियो फ्रीक्वेंसी आइडेंटिफिकेशन का इस्तेमाल होता है। इस टैग को वाहन के विंडस्क्रीन पर लगाया जाता है। जैसे ही आपकी गाड़ी टोल प्लाजा के पास आती है, तो टोल प्लाजा पर लगा सेंसर आपके वाहन के विंडस्क्रीन पर लगे फास्टैग को ट्रैक कर लेता है। और बैरियर खुल जाता है। जिससे वाहन आगे बढ जाते हैं।

Related Articles

Back to top button
error: Content is protected !!