उत्तराखंड

‘मेरा गांव मेरी सड़क योजना’ से प्रदेश में जल्द बनेंगी कई सड़के, ग्राम्य विकास मंत्री ने जारी की स्वीकृति

Listen to this article

देहरादून। उत्तराखण्ड के ग्राम्य विकास मंत्री गणेश जोशी ने राज्य के कई जिलों में मेरा गांव मेरी सड़क योजना में 21 सड़क योजनाओं को स्वीकृति दी है। ग्राम्य विकास मंत्री ने मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी का धन्यवाद करते हुए कहा कि उनके मार्गदर्शन में ग्रामीण क्षेत्र के लोगों को सड़क निर्माण के बाद कई तरह के फायदे मिलेंगे।

यहां एक बयान में उत्तराखण्ड के ग्राम्य विकास मंत्री गणेश जोशी ने कहा कि मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी के नेतृत्व में सरकार ग्रामीण अंचलों के विकास के लिए प्रतिबद्ध है। कहा कि प्रदेश सरकार ग्रामीण क्षेत्रों के चंहुमुखी विकास के लिए उनमें रोजगार, स्वरोजगार एवं आवास उपलब्ध कराने के साथ-साथ लोक निर्माण विभाग और पीएमजीएसवाई की परिधि से बाहर के संपर्क विहीन गांवों को सम्पर्कता प्रदान करने की दिशा में निरंतर प्रयास कर रही है। उन्होंने कहा कि अब इस योजना से अन्य कई गांवों को जोड़ा लाएगा। ग्राम्य विकास मंत्री गणेश जोशी ने कहा कि आवश्यकता होगी तो और गांवों को सडक़ मार्ग से जोड़ने के लिए अनुपूरक बजट में धनराशि की व्यवस्था कर दी जाएंगी।

मेरा गांव मेरी सड़क योजना में मुख्य सडक़ से 1 किमी की दूरी पर स्थित संपर्क विहीन गांवों की सार्वमौसम सम्पर्कता के लिए सड़के बनाई जाती है। विगत वर्ष इस योजना में 36 गांव हेतु सड़कें स्वीकृत की गयी थीं, जिन पर कार्य चल रहा है। मंत्री जोशी ने कहा कि इस योजना से गांववासियो को सभी मौसमों में आवागमन हेतु संपर्क मार्ग तो उपलब्ध होने के साथ-साथ स्थानीय उपज को बाजार तक लाने में भी सुविधा होगी, जिससे किसानों की आय में वृद्धि होगी तथा प्रत्यक्ष अप्रत्यक्ष अन्य रोजगार के साधन भी विकसित होंगे।

ये भी पढ़ें:  बदरीनाथ-केदारनाथ में जल्द शुरू होगें अस्पताल, चारधाम यात्रा को सुगम और सुरक्षित बनाने में जुटा स्वास्थ्य महकमा

प्रदेश के विभिन्न विकासखण्डों की 21 सड़कें, जिनके निर्माण की स्वीकृति प्रदान हुई है, निम्नवत हैं-

चम्पावत: विकासखंड पाटी के ग्राम पंचायत इजट्टा डुंगरा के अन्तर्गत ग्राम रटमाटा से पसेली तोक तक।

देहरादून: विकासखंड चकराता के ग्राम पंचायत दौधा में ग्राम दौधा से शवांता एवं डिब्बा तोक तक, ग्राम पंचायत चांजोई से हरिजन बस्ती शिलानाड़ तक, ग्राम पंचायत बाणाधार के खेडा़बागी तक, ग्राम पंचायत गुडूल में मुख्य मार्ग बमेट से ग्राम सलेथ तक, ग्राम सिलावड़ा में डी0के0 रोड़ से गांव तक, ग्राम पंचायत सैंज के बर्नाड खड्ड हाली रोड़ से ग्रांव तक, ग्राम पंचायत अणु के दादू गांव, विकासखंड कालसी के ग्राम पंचायत उभरेऊ के डिमाया गांव से कयुलु मंदिर तक, ग्राम पंचायत ठाणा के छिन्डा छानी से शिरकोटा तक, ग्राम पंचायत चोरकुनावा में हयोटगरी मोटर मार्ग से कुनावा तक सी0सी0 सड़क, ग्राम पंचायत गडोल में डागूरा खड्ड से परशुराम महाराज मंदिर तक सी0सी0 सड़क, ग्राम पंचायत विरमऊ से चकराता-मसूरी से विरमउ डांडा होते हुए गुराब सिंह महाविद्यालय तक, ग्राम पंचायत टुंगरा के रिखाड मोटर मार्ग से रायागाड़ छानी तक, ग्राम पंचायत लेल्टा में जूनियर हाईस्कूल से कमदार व रमेश के घर तक, ग्राम पंचायत झुसौ-भाकुरौं में डामटा के मुख्य मोटर मार्ग से गुठाणी छानी डांडा तक, ग्राम पंचायत दिलउ में मुख्य मार्ग से भकोईला खेडा़ तक सी0सी0 सड़क।

पौड़ी: विकासखंड द्वारीखाल में ग्राम पंचायत डल में चोपडा़ व्यास घाट मोटर मार्ग से खाण्डासैंण ग्वाडी़ तक, ग्राम पंचायत लोषण में ज्मेली मोटर मार्ग से ग्राम सीम बुबई तक।

पिथौरागढ : विकासखंड धारचूला के ग्राम पंचायत बलुवाकोट के अर्न्तगत घाटीबगड़ मोटर मार्ग से गागरा तल्ला सैना तक हल्का मोटर वाहन मार्ग, विकासखंड कनालीछीना के ग्राम पंचायत गर्जिया अर्न्तगत चमलेख से घुघाचुला तक हल्का वाहन मोटर मार्ग।

ये भी पढ़ें:  कई कर्मचारी यूनियनों के पदाधिकारियों ने CM से की मुलाकात, आवश्यक कार्रवाई करने का दिया आश्वासन

Related Articles

Back to top button