उत्तराखंडदेहरादूनपर्यटनराज्य

रेनबो ट्राउट- पांच नदियों को 32 बीटों में चिन्हित कर समूहों को ठेके आधार पर देने की योजना

Listen to this article

चमोली। जनपद में रेनबो ट्राउट आज मत्स्य पालन के बाद पर्यटन के क्षेत्र में भी रोजगार का साधन बनती जा रही है।

रेनबो ट्राउट मछली स्पोर्ट्स फिश के लिए भी जानी जाती है। पर्यटक एंग्लिंग के माध्यम से कैच एवं रिलीज नियम के आधार पर स्पोर्ट्स के

रूप में आनंद लेते हैं। मत्स्य विभाग द्वारा जनपद की पांच नदियों को 32 बीटों में चिन्हित

कर नदी के आस-पास के गांव में गठित समूहों को ठेके आधार पर देने की योजना है। जहां पर्यटक आकर निश्चित दर पर शुल्क जमा कर एंग्लिंग का आनंद ले सकेगें। इसमें नवयुवकों को परमिट शुल्क के अतिरिक्त फिश एंग्लिंग गाइड के रूप में भी कार्य कर स्वरोजगार मिल सकेगा।
मत्स्य विभाग ने आम जनमानस से अपील है कि फिश एग्लिंग में अपना योगदान एवं सहयोग करें। इस कार्य से रोजगार के साथ अवैध मत्स्य आखेट पर भी अंकुश लगेगा। मत्स्य विभाग 04 से 05 बीटों में पायलट रूप में इस योजना को शुरू करने जा रहा है। जिसके लिए जल्द ही टेंडर आमंत्रित किए जाएंगे।
जिले के किसान मत्स्य पालन के क्षेत्र में राज्य मे अग्रणी भूमिका निभा रहे हैं। इसमें मत्स्य प्रक्षेत्र बैरांगना एवं मत्स्य प्रक्षेत्र तलवाडी का अहम योगदान रहा है। इन दोनों ही प्रक्षेत्रों से मत्स्य बीज उत्पादन कर पूरे राज्य में ट्राउट मत्स्य बीज की आपूर्ति की जाती है। विभागीय सहयोग से ग्राम वाण में भी एक व्यक्तिगत हैचरी तैयार कर मत्स्य बीज उत्पादन एवं विकय शुरू किया गया है। जो आने वाले समय में मील का पत्थर साबित होगा। जनपद चमोली में गंगा की सहायक नदियों में भी रेनबो ट्राउट पायी जाती है। विभाग द्वारा इन नदियों भी मत्स्य बीज संचित किए जाते हैं।
ललिता प्रसाद लखेड़ा

ये भी पढ़ें:  उत्तराखंड में राज्यपाल के अभिभाषण के साथ शुरू हुआ विधानसभा का बजट सत्र

Related Articles

Back to top button