उत्तराखंडएक्सक्यूसिवदेशदेहरादूनधर्म कर्मपर्यटनमौसमराजनीति

रानीपोखरी में नए पुल के लिए मिट्टी की जांच पूरी, अक्टूबर में कार्य शुरू होने की उम्मीद

Listen to this article

20 सितंबर तक शासन को भेजी जाएगी रानीपोखरी में नए पुल की डीपीआर

Dehradun. रानीपोखरी में 57 वर्ष पुराना पुल बह जाने के बाद अब नए पुल को बनाने की कवायद तेज कर दी गई है।

मंगलवार के दिन जाखन नदी की मिट्टी की जांच पूरी कर दी गई है। जिसके बाद अब पुल का डिजाइन बनाकर आईआईटी को भेजा जाएगा। और वहां से डिजाइन पास होने के बाद पुल निर्माण का कार्य शुरू कर दिया जाएगा।

रानीपोखरी में नए पुल के निर्माण की शुरूवात को जाखन नदी की मिट्टी की जांच रिपोर्ट को बहुत जरूरी माना जा रहा है। इसी जांच रिपोर्ट के आधार पर पुल का डिजाइन बनाया जाएगा। और डिजाइन के आईआईटी से पास होते ही पुल निर्माण का कार्य शुरू कर दिया जाएगा।

उल्लेखनीय है कि बीते 27 अगस्त को रानीपोखरी में जाखन नदी पर बनाया गया देहरादून को ऋषिकेश से जोड़ने वाला पुल तेज बहाव की चपेट में आकर बह गया था। जिससे लोगों को आवाजाही करने में भारी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है।

फिलहाल लोग क्षतिग्रस्त पुल के पास बनाए गए कच्चे वैकल्पिक मार्ग का इस्तेमाल कर रहे हैं। लेकिन अब मिट्टी की जांच फाइनल होने के बाद टेक्निकल कन्सलटेंसी सर्विस से पुल का डिजाइन तैयार करवाया जाएगा। पुल का डिजाइन तैयार होने के बाद इसे पास करने को आईआईटी भेजा जाएगा।

और डिजाइन पास होने के बाद पुल निर्माण का कार्य शुरू कर दिया जाएगा। एनएच के जेई प्रवीन सक्सेना ने कहा कि 20 सितंबर तक पुल की डीपीआर शासन को भेज दी जाएगी। और संभावनाएं हैं कि अक्टूबर से पुल निर्माण कार्य कार्य शुरू कर दिया जाएगा।

क्षतिगस्त पुल को ढहाकर बनेगा नया पुल

डोईवाला। रानीपोखरी में नया पुल बनाने के लिए पहले क्षतिग्रस्त पुल को तोड़ा जाएगा। और फिर इसके स्थान पर ही नए पुल का निर्माण किया जाएगा। पुल के दोनों तरफ थानों और बड़कोट का घना जंगल खड़ा है।

जिसमें प्रतिबंधित प्रजाति के पेड़ खड़े हैं। इसलिए बिना फॉरेस्ट क्लीयरेंस के दूसरे स्थान पर पुल का निर्माण नहीं किया जा सकता है। यही कारण है कि क्षतिग्रस्त पुल को ढहाकर ही उसके स्थान पर नए पुल का निर्माण किया जाएगा।

Related Articles

Back to top button
error: Content is protected !!