उत्तराखंडदेशदेहरादून

मालूपाती (पिथौरागढ़) में चट्टान टूटने से बनी 130 मीटर लंबी, 30 मीटर चौड़ी व 5 से 7 मीटर गहरी झील

संभावित खतरे के मद्देनजर पिथौरागढ़ में तहसील मुनस्यारी के मालूपाती में बने डैमनुमा तालाब का किया भौतिक निरीक्षण

पिथौरागढ़। दिनाँक 21 अगस्त 2021 को पिथौरागढ़ जिले के तहसील मुनस्यारी के ग्राम मालुपाती में चट्टान टूटने से नाले का जल प्रवाह रुक गया था। जिससे एक डैमनुमा तालाब का निर्माण हो गया है। राज्य में हो रही मूसलाधार बारिश से यह डैमनुमा तालाब आम जनमानस के लिए और भी खतरनाक प्रतीत होने लगा था।

किसी भी प्रकार के संभावित खतरे से आम जनमानस की सुरक्षा के दृष्टिगत अपर जिलाधिकारी पिथौरागढ़ के आदेशनुसार एक समिति का गठन किया गया। समिति में भूवैज्ञानिक व सिंचाई विभाग के AE को शामिल किया गया व स्थलीय निरीक्षण हेतु SDRF टीम को भी शामिल किया गया। जिनके द्वारा आज दिनाँक 25 अगस्त को कई किलोमीटर पैदल चलकर मालुपाती में बने डेमनुमा तालाब का निरीक्षण किया गया।

SDRF टीम प्रभारी SI देवेंद्र सिंह द्वारा बताया गया कि झील का भौतिक निरीक्षण किया गया व टीम द्वारा दौराने निरीक्षण पाया की झील की लंबाई 130 मीटर ,चौड़ाई 30 मीटर व गहराई 5 से 7 मीटर के लगभग है। झील के मुहाने से पर्याप्त मात्रा में पानी डिस्चार्ज हो रहा है, जिससे फिलहाल कोई सम्भावित खतरे की संभावना नही है। दिनाँक 22 अगस्त को भी टीम द्वारा उक्त डैमनुमा तालाब का निरीक्षण किया गया था।

ये भी पढ़ें:  उत्तराखंड के नाम एक और कीर्तिमान, एसडीजी 2023-24 में उत्तराखंड देश में प्रथम, नीति आयोग ने जारी की रिपोर्ट, सीएम धामी ने प्रदेशवासियों को दी बधाई

Related Articles

Back to top button
error: Content is protected !!