उत्तराखंडदेशदेहरादूनराजनीति

बड़ी खबर, यशपाल आर्य बेटे संजीव आर्य समेत कांग्रेस में शामिल

Listen to this article

देहरादून। बीजेपी के परिवहन एवं समाज कल्याण मंत्री यशपाल आर्य व उनके पुत्र नैनीताल विधायक संजीव आर्य ने आज घर वापसी के तहत कांग्रेस में शामिल हो गए हैं।

मंत्री यशपाल आर्य व उनके बेटे विधायक संजीव आर्य ने दिल्ली में अपने समर्थकों के साथ कांग्रेस का दामन थाम लिया है। प्रदेश में पिछले कुछ महीनों से दल-बदल का खेल चरम है। गढ़वाल मंडल से कांग्रेस विधायक राजकुमार व प्रीतम सिंह पवार के बाद कुमाऊं मंडल से निर्दलीय विधायक राम सिंह कैड़ा ने भाजपा का दामन थाम लिया है।

भाजपा जहां तमाम विधायकों को अपने पाले में कर राज्य में सियासी माहौल को अपने पक्ष में करने में जुटी है। वहीं कांग्रेस ने भी अंदरूनी स्तर पर भाजपा के बड़े नेताओं को अपने पाले में करने के लिए तैयारी शुरू कर दी है. राज्य के इस तरह के सियासी हालात से आने वाले समय में चुनाव बेहद दिलचस्प हो जाएंगे।

साल 2017 विधानसभा चुनाव से पहले पूर्व मुख्यमंत्री विजय बहुगुणा समेत कांग्रेस के 9 बागी विधायकों ने बीजेपी का दामन थामा था। ऐसे में उत्तराखंड बीजेपी में 2022 चुनाव से पहले चल रही सियासी उथल-पुथल के बाद उत्तराखंड सरकार में कैबिनेट मंत्री और एक विधायक घर वापसी कर सकते हैं।

वहीं कांग्रेस में जाने के पीछे एक बड़ा कारण तराई के क्षेत्रों में बीजेपी का किसानों के मुद्दे पर खासा विरोध होना भी बताया जा रहा है ऐसे में बाजपुर सीट से जीतना यशपाल आर्य के लिए बीजेपी के टिकट पर मुश्किल साबित हो सकता है इसलिए कांग्रेस का दामन थाम कांग्रेस के टिकट पर वह चुनाव लड़ने जा रहे है।

सूत्र बताते है कि कुछ दौर की बातचीत यशपाल आर्य कि कांग्रेस आलाकमान से हो चुकी थी ऐसे में आज उनको पार्टी में शामिल करके झटका दे दिया है। वही सूत्र यह भी बताते हैं कि पिछले काफी समय से कैबिनेट की बैठकों में भी यशपाल आर्य दलितों के मुद्दों को लेकर कैबिनेट की बैठक में खासे मुखर थे कांग्रेस सूत्रों का कहना है। दीपावली तक बीजेपी के कम से कम 8 विधायकों को कांग्रेस में शामिल करने का फैसला किया जाएगा इसमें कांग्रेस से बीजेपी में गए बागी नेताओं के नाम भी शामिल हो सकते हैं।

वही आज महासचिव के सी वेणुगोपाल और रणदीप सिंह सुरजेवाला ने उन्हें पार्टी में शामिल कराया। साथ मे प्रदेश प्रभारी देवेंद्र यादव भी मौजूद रहे।

अब देखना होगा कि नैनीताल की पूर्व विधायक सरिता आर्या उस टाइम हरीश रावत के साथ डटी रही जिस टाइम कांग्रेस के विधायक बीजेपी में शामिल हुए और ऐसे में यशपाल आर्य के पुत्र नैनीताल से ही चुनाव लड़ेंगे तो सरिता आर्या कहां से चुनाव लड़ेगी यह बड़ा सवाल होगा। कहीं कांग्रेस में भी ठीक चुनाव से पहले अंदरूनी कलह  ना हो यह बड़ा सवाल होगा। लेकिन यशपाल आर्य के कांग्रेस में शामिल होने से जहां बीजेपी को तगड़ा झटका लगा है वहीं कांग्रेस को 2022 में इसका फायदा मिलेगा।

पुष्कर सिंह धामी के कार्यकाल में मिला मंत्रालय
दिग्गज विधायक यशपाल आर्य ने जुलाई महीने में ही पुष्कर सिंह धामी के साथ मंत्री पद की शपथ ली थी. यशपाल आर्य के साथ बिशन सिंह, अरविंद पांडेय, गणेश जोशी और सुबोध उनियाल भी पुष्कर सिंह धामी के मंत्रिमंडल में शामिल हुए थे. उन्होंने भी मंत्रिपद की शपथ ली है. इसके अलावा धनसिंह रावत, रेखा आर्या और यतीश्वरा नंद ने भी मंत्रिपद की शपथ ली थी.

Related Articles

Back to top button
error: Content is protected !!