उत्तराखंडएक्सक्यूसिवदेशदेहरादूनराजनीति

एयरपोर्ट-रायपुर मार्ग पर बड़ासी में पुल के एप्रोच मार्ग का बड़ा हिस्सा ढहा

Listen to this article

भोपालपानी पुल के बाद बड़ासी पुल की गुणवत्ता पर भी उठे सवाल

Dehradun. जौलीग्रांट एयरपोर्ट को रायपुर, देहरादून से जोड़ने वाले मुख्य मार्ग एयरपोर्ट-रायपुर मार्ग पर रेहड़खाला नदी बड़ासी में पुल के एप्रोच मार्ग का एक बड़ा हिस्सा ढह गया है।

जिस कारण इस पुल की गुणवत्ता पर सवाल उठने लगे हैं। एप्रोच मार्ग के ढहने के कारण इस मार्ग पर यातायात को पूरी तरह बंद कर दिया गया है। इस पुल को लगभग दो वर्ष पूर्व नेशनल हाईवे द्वारा बनाया गया था। लेकिन बारिश से पहले ही बुधवार शाम करीब साढे आठ बजे इस पुल के एप्रोच मार्ग का एक बड़ा हिस्सा धराशाई हो गया है। गनीमन रही कि उस वक्त इस पुल पर ट्रैफिक नहीं था। इसलिए कोई जान-माल का नुकसान नहीं हुआ।

बड़ासी में कांग्रेस कार्यकर्ताओं के साथ मौजूद हीरा सिंह बिष्ट

केंद्रीय सड़क निधि (सीआरएफ) के अंतर्गत लगभग दो वर्ष पूर्व जौलीग्रांट एयरपोर्ट और रायपुर के बीच कुल तीन पुलों का निर्माण किया गया था। निर्माण के बाद से ही सभी पुलों की गुणवत्ता पर सवाल उठने शुरू हो गए थे।

लोक निर्माण विभाग के अपर सचिव द्वारा तीन जनवरी 2016 को एयरपोर्ट-रायपुर के बीच  तीन पुलों सहित कुल 12 कार्यो का प्रस्ताव तैयार कर सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्रालय भारत सरकार को भेजा गया था। प्रस्ताव में सभी 12 कार्यो की कुल लागत दो अरब दस करोड़ सत्तावन लाख चालीस हजार रूपए बताई गई थी।

जिसके बाद एनएच द्वारा तीनों पुलों को बड़ासी, भोपालपानी और सिरवालगढ (सौड़ा सरोली) में तैयार किया गया था। लेकिन पुल निर्माण के बाद से भी पुलों की गुणवत्ता पर सवाल उठने शुरू हो गए थे। पिछले वर्ष शासन स्तर से भोपालपानी पुल मामले में कुछ अधिकारियों पर भी गाज गिरी थी।

फिलहाल राहत वाली बात ये है कि कोरोना कर्फ्यू के कारण जौलीग्रांट एयरपोर्ट पर फ्लाइटें की संख्या आधे से भी कम है। जिस कारण इस मार्ग पर यातायात का दबाव उतना नहीं है। और संबधित विभाग बिना किसी अधिक परेशानी के इसकी मरम्मत आदि कर सकता है।

उधर लोनिवी के अधिशासी अभियंता विपुल सैनी ने कहा कि बड़ासी पुल को एनएच द्वारा बनाया गया है। जबकि एनएच के एई अनिल चंदोला ने कहा कि मामले की जांच की जा रही है। इस मामले में जो भी दोषी होगा उस पर सख्त कार्रवाई की जाएगी।

पुल निर्माण में हैं कई खामियां

Dehradun. एयरपोर्ट-रायपुर के बीच जो तीन पुल बनाएं गए हैं। उनमें गुणवत्ता के साथ ही कई तकनीकी खामियां भी हैं। पुल की एप्रोच रोड़ देखकर ऐसा लगता है जैसे किसी नौसिखए ने इसे बनाया है। पुल पर चढने और उतरने के लिए जो एप्रोच रोड़ बनाई गई है। उसमें तीव्र मोड़ हैं। जिससे यहां हमेशा एक्सीडेंट का खतरा बना हुआ है। एप्रोच मार्ग में बिछाई गई मिट्टी पर भी ठीक ढंग से रोलर नहीं चलाया गया है।

एप्रोच मार्ग ढहने के बाद बैरिकेडिंग लगाकर बंद किया बड़ासी पुल

जिस कारण पूरी एप्रोच रोड़ ही धंसकर एक तरफ पलट गई है। जिससे साफ है कि इसमें कार्यदायी संस्था और ठेकेदार ने मिलकर बड़ा खेल किया है। इस मार्ग पर खनन से लदे भारी से बहुत भारी वाहनों की आवाजाही से भी पुल की एप्रोच रोड़ को नुकसान पहुंचा है।

कांग्रेस बोली मिट्टी के मकान की तरह बनाएं हैं पुल

Dehradun. वरिष्ठ कांग्रेसी नेता और पूर्व काबीना मंत्री हीरा सिंह बिष्ट अपने कार्यकर्ताओं के साथ बड़ासी पहुंचे। उन्होंने कहा कि पुल के निर्माण में बड़ा खेल हुआ है। जिसकी ईमानदारी से जांच होनी चाहिए। कहा कि जब भोपालपानी पुल में दरार आई थी उन्होंने तभी सरकार व संबधित विभाग को लिखित में इसकी जांच कराने को कहा था।

कांग्रेस कार्यकारी ब्लॉक अध्यक्ष रणजीत सिंह (बॉबी) के नेतृत्व में पुल की जांच को लेकर उपजिलाधिकारी डोईवाला को ज्ञापन देते हुए मांग की गई कि संबधित ठेकेदार और अधिकारियों पर कड़ी कार्रवाई की जानी चाहिए। मौके पर कांग्रेस जिलाध्यक्ष गौरव सिंह, ओबीसी नगर अध्यक्ष भारत भूषण पेले, पंचायत राज संगठन के संयोजक मोहित शर्मा, जिला महामंत्री परवादून जसवंत सिंह, बलवीर सिंह, कादिर अली सभासद, नागेंद्र सिंह नागी सभासद प्रतिनिधि आदि मौजूद रहे।

एयरपोर्ट-रायपुर मार्ग पर बड़ासी में पुल की एप्रोच रोड़ ढही

बड़ासी में कांग्रेस कार्यकर्ताओं के साथ मौजूद हीरा सिंह बिष्ट

एप्रोच मार्ग ढहने के बाद बैरिकेडिंग लगाकर बंद किया बड़ासी पुल

 

Related Articles

Back to top button
error: Content is protected !!