उत्तराखंडएक्सक्यूसिवदेशदेहरादूनराजनीतिराज्य

मंहगाई और बेरोजगारी को लेकर लड़ाई आगे भी रहेगी जारी: हरीश रावत

भाजपा सरकार ने घरेलू उत्पादों पर भी टैक्स लगाकर मंहगाई बढाई

Dehradun. पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत ने कहा कि भाजपा सरकार ने मंहगाई इतनी बढा दी है कि आम आदमी को दो वक्त का रोटी खाना भी मुश्किल हो गया है।

जौलीग्रांट में पत्रकार वार्ता के दौरान पूर्व सीएम रावत ने कहा कि पहले ब्रांडेड चीजों पर टैक्स लगाया जाता था। लेकिन अब केंद्र सरकार ने घरेलू उत्पादों पर टैक्स लगा दिया है। जिससे महंगाई काफी बढ़ गई है।

सामान्य कपड़ों और खाने-पीने की चीजों पर रेट बढने से महंगाई चरम पर पहुंच गई है। जिससे आम आदमी की गले-गले आ गई है। सरकार कहती है कि महंगाई यूक्रेन की लड़ाई के कारण हुई है। लेकिन लड़ाइयां तो उस वक्त भी होती थी। जब केंद्र में डॉ मनमोहन सिंह की सरकार थी।

उस वक्त मध्य एशिया में लड़ाई चल रही थी। इराक, सीरिया, लेबनान और अफगानिस्तान में तब लड़ाई चल रही। तब देश में यदि एक चीज के दाम बढ़ते थे तो दूसरी चीजों को नियंत्रित किया जाता था।

लेकिन आज सभी चीजों के दाम बढ़ रहे हैं। जिससे जनता कराहा रही है। नौकरियां सूख गई हैं। और जो नौकिरयां आती भी हैं। उनमें घोटाले हो जाते हैं। इसलिए महंगाई व नौकरियों के मुद्दे को लेकर उनकी लड़ाई आगे भी जारी रहेगी।

कहा कि उनके मुख्यमंत्री रहते कालूवाला में सौंग नदी पर कालूवाला और गूलरघाटी के बीच एक पुल स्वीकृत हुआ था। जिसे अब ठंड़े बस्ते में ड़ाल दिया गया है।

डोईवाला में 33 केवी के विद्युत स्टेशन स्वीकृत किए थे। जो नहीं बन पाए हैं। गन्ना सेंटर बंद नहीं बल्कि किसानों की सुविधाओं को गन्ना सेंटर बढाने चाहिए। उन्होंने गन्ना कांग्रेस के समय किसानों से बीज बदलवाया था। जिससे रिकवरी बढी है।

और किसानों को गन्ना पेमेंट समय से मिलने लगा है। उनके समय में डोईवाला चीनी मिल का आधुनिकीकरण किया जाना प्रस्तावित था। जिस पर अब कोई काम नहीं हो रहा है। क्योंकि पुरानी मशीनों से बेहतर नतीजे प्राप्त नहीं किए जा सकते हैं।

ये भी पढ़ें:  सूबे में मातृ मुत्यु दर कम करने को बने रोड़मैपः डॉ धन सिंह रावत

Related Articles

Back to top button
error: Content is protected !!