अपराधउत्तराखंडदेशदेहरादूनधर्म कर्मपर्यटनराज्य

जौलीग्रांट एयरपोर्ट पर सीआईएसएफ जवानों ने टैक्सी चालक को पीटा, हंगामा

टैक्सी सेवा बंद होने से एयरपोर्ट पर हवाई यात्री रहे परेशान

Listen to this article

डोईवाला। देहरादून के जौलीग्रांट एयरपोर्ट पर एयरपोर्ट की सुरक्षा में लगे सीआईएसएफ के जवानों ने एयरपोर्ट पर प्रीपेड टैक्सी चालक से जुड़े एक टैक्सी चालक को पीट दिया।

जिसके बाद टैक्सी चालकों ने एयरपोर्ट टर्मिनल के बाहर हंगामा शुरू कर दिया। कई घंटे तक एयरपोर्ट के बाहर हंगामा होता रहा। मंगलवार की सुबह एक प्राईवेट कार कुछ सवारियों को लेकर एयरपोर्ट पर आई जिसे एयरपोर्ट टैक्सी चालकों ने रोक लिया। क्योकि एयरपोर्ट टैक्सी चालकों का कहना है कि बाहर से आई कोई भी प्राईवेट एयरपोर्ट की सवारियों को अपनी कार में नहीं बैठा सकती है।

 

इससे उनका काम प्रभावित होता है। इस बात को लेकर विवाद बढ गया। जिसके बाद जौलीग्रांट निवासी टैक्सी चालक सुमित किशोर पाल को सीआईएसएफ के जवानों ने हाथों और डंडों से पीटा।

और टैक्सी चालक को जबरन अपने सुरक्षा वाहन में बिठाने की कोशिश की। जिसके बाद काफी संख्या में टैक्सी चालकों ने एयरपोर्ट टर्मिनल के बाहर हंगामा काटते हुए सीआईएसएफ के खिलाफ नारेबाजी शुरू कर दी।

टैक्सी चालक ने कहा कि उनके साथ सीआईएसएफ जवानों ने मार पिटाई करते हुए गाली गलौच भी किया है। टैक्सी चालक मार पिटाई व गाली गलौच करने वाले सीआईएसएफ जवानों को सस्पेंड करने उनके खिलाफ मुकदमा दर्ज करने की मांग पर अड़े रहे। सूचना पाकर जौलीग्रांट चौकी पुलिस मौके पर पहुंची। जिसके बाद नारेबाजी बंद हो गई। लेकिन टैक्सी चालक सीआईएसएफ जवानों पर कार्रवाई की मांग को लेकर अड़े रहे।

टैक्सी यूनियन अध्यक्ष महेंद्र प्रसाद भारती ने कहा कि टैक्सी चालकों के साथ मार-पिटाई बर्दाश्त नहीं की जाएगी। कहा कि स्थानीय लोगों ने एयरपोर्ट के लिए अपने घर और जमीनों को छोड़ दिया। अब जब सैकड़ों लोग एयरपोर्ट पर टैक्सी चलाकर अपने परिवार का पेट पाल रहे हैं।

उस पर भी उनके साथ मार-पिटाई की जा रही है। उधर एयरपोर्ट सुरक्षा से जुड़े अधिकारियों ने कहा कि जो प्राइवेट कार एयरपोर्ट पर आई थी। उसने पहले ही टोल पर पेनल्टी दे दी थी। उस कार में कुछ सवारियां बैठी थी। जिन्होंने सुरक्षा जवानों को कहा। फिर भी इस मामले में उचित कार्रवाई की जाएगी।

 

हवाई पैसेंजर रहे परेशान

डोईवाला। जितनी देर एयरपोर्ट पर हंगामा होता रहा। उतनी देर जौलीग्रांट एयरपोर्ट पर फ्लाइटों से आए हुए हवाई यात्री टैक्सी को परेशान रहे। चौकी इंचार्ज उत्तम सिंह रमोला टैक्सी यूनियन के पदाधिकारियों को समझाते रहे कि टैक्सी सेवा को बंद करना किसी भी लिहाज से ठीक नहीं है।

इससे एयरपोर्ट टैक्सी चालकों व पैसेंजरों दोनों को नुकसान है। इसके बावजूद कुछ टैक्सी चालक मानने को तैयार नहीं थे। और कुछ देर तक एयरपोर्ट पर टैक्सी सेवाएं बंद रही।

 

सैनिक मोहल्ले के संकरे रास्ते पर फर्राटा भरते हैं सीआईएसएफ जवान

डोईवाला। एयरपोर्ट के अंदर ही नहीं बल्कि एयरपोर्ट के बाहर भी सीआईएसएफ के जवानों का आए दिन लोगों के साथ विवाद होता रहता है। देहरादून एयरपोर्ट द्वारा कुछ समय पहले अपने एटीसी विभाग, मौसम विभाग, फायर ब्रिगेड और सीआईएसएफ जवानों की सुविधा के लिए एक अलग गेट गांव के संकरे रास्ते की तरफ लगाया गया है। ये वही रास्ता है जो एयरपोर्ट द्वारा 2007 में एयरपोर्ट विस्तारीकरण के दौरान बंद कर दिया गया था।

और ग्रामीणों के एक महीने तक चले आंदोलन के बाद हिमालयन अस्पताल प्रशासन द्वारा इस रास्ते को गांव वालों को दिया गया था। ये रास्ता इतना संकरा है कि इसमें दो छोटी कार भी पास नहीं हो सकती हैं।

अब इस रास्ते को एयरपोर्ट के सैकड़ों कर्मचारी इस्तेमाल करते हैं। और सीआईएसएफ के दर्जनों जवान इस संकरे मार्ग पर फुल स्पीड से फर्राटा भरते हैं। जिससे इस मार्ग पर दुघर्टना होने का खतरा काफी बढ गया है। और आए दिन इस संकरे मार्ग पर विवाद होते रहते हैं।

 

इन्होंने कहा

एयरपोर्ट पर सीआईएसएफ और टैक्सी चालकों के बीच हुए किसी तरह के विवाद या मार-पिटाई की कोई जानकारी उनके पास नहीं है। एसडी शर्मा, कार्यकारी विमापत्तन निदेशक देहरादून एयरपोर्ट।

 

Related Articles

Back to top button
error: Content is protected !!