उत्तराखंडदेहरादूनराजनीति

जौलीग्रांट सरकारी नहर में पानी कम होने से किसानों को सिंचाई का संकट, अधिशासी अभियंता के कार्यालय में प्रदर्शन

Listen to this article

डोईवाला। जौलीग्रांट स्थित सरकारी नहर में पानी का जलस्तर कम होने की वजह से पिछले 2 हफ्ते से किसानों को सिंचाई के संकट से गुजरना पड़ रहा है।

गन्ना समिति के चेयरमैन मनोज नौटियाल के नेतृत्व में किसानों ने अधिशासी अभियंता के कार्यालय दून कैनाल में पहुंचकर प्रदर्शन किया। सिंचाई विभाग के अधिशासी अभियंता की अनुपस्थिति में सिंचाई विभाग के एसडीओ खुशवंत सिंह चौहान जी को ज्ञापन दिया।

जिसमे कहा कि किसानों को पिछले 2 हफ्ते से सिंचाई का पानी उपलब्ध न होने की वजह से फसलों को नुकसान होने का संकट पैदा हो गया है। इस समय गेहूं, बरसीन व गन्ने की बुवाई के लिए पानी की अत्यंत आवश्यकता है, लेकिन क्षेत्र की एकमात्र सरकारी नहर में पानी का संकट पैदा हो गया है।

सभासद अनूप सोलंकी ने कहा कि हिमालयन हॉस्पिटल के पास आदर्श नगर वाले क्षेत्र में आबादी होने के बावजूद भी इस क्षेत्र को सिंचाई का पानी दिया जा रहा है। जबकि सिंचाई का रकबा वहां नाममात्र का रह गया है। पंचायत राज प्रकोष्ठ के सचिव सुधीर रावत ने नहर के कुलावो का दोबारा सर्वे करवाने की मांग की।
इस दौरान एसडीओ खुशवंत सिंह चौहान जी ने आश्वासन दिया कि अति शीघ्र क्षेत्र में सर्वे कराकर पुनःरोस्टर बनाया जाएगा। और जिन कुलावो में पानी नहीं है वहां पानी दिया जाएगा।

इस दौरान सिंचाई विभाग से अवर अभियंता आशीष यादव, जिलेदार युसूफ, फतेह सिंह नेगी, सुशांत सिंधवाल, राधेश्याम वर्मा, ईश्वर चंद पाल, लक्ष्मीचंद पाल, देवेंद्र सिंधवाल, मोर सिंह कोकलियाल, तेग सिंह प्रह्लाद सिंह आदि किसान उपस्थित थे।

ये भी पढ़ें:  भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा का उत्तराखंड दौरा स्थगित, बीजेपी प्रदेश महामंत्री ने दी जानकारी

Related Articles

Back to top button