अपराधउत्तराखंडदेहरादूनराजनीति

डोईवाला: गन्ना भुगतान को लेकर किसानों का प्रदर्शन

Listen to this article

डोईवाला। गन्ना मिल द्वारा किसानों से गन्ना मूल्य भुगतान के झूठे आश्वासन के खिलाफ

अखिल भारतीय किसान सभा ने गन्ने के भुगतान को लेकर अधिशासी निदेशक के

कार्यालय पर प्रदर्शन किया। और शीघ्र भुगतान न होने पर आंदोलन की चेतावनी दी।

कहा कि गन्ना मिल को चलते हुए लगभग दो माह होने जा रहे हैं और बीते 27 दिसम्बर को

किसानों द्वारा भुगतान की मांग को लेकर किये गये प्रदर्शन में डोईवाला मिल अधिशासी

निदेशक महोदय द्वारा 10 जनवरी तक गन्ने का भुगतान किए जाने का वायदा किया था।

लेकिन 14 जनवरी तक भी भुगतान सम्बन्धी कोई कार्यवाही मिल द्वारा नहीं किये जाने से

नाराज किसानों ने शनिवार को गन्ना सोसायटी डोईवाला में बैठक की। और तत्पश्चात भुगतान

किये जाने की मांग को लेकर किसान मिल में अधिशासी निदेशक से मिलने पहुंचे।

जहां अधिशासी निदेशक अपने कार्यालय में मौजूद नहीं थे । जबकि वह मिल परिसर में ही

मौजूद थे। और सूचना के बावजूद उन्होंने किसानों से मिलना उचित नहीं समझा।

जिससे नाराज किसानों ने मिल प्रशासन के खिलाफ ज़ोरदार नारेबाजी करते हुए मिल

प्रशासन के खिलाफ प्रदर्शन किया ।
प्रदर्शन को सम्बोधित करते हुए किसान सभा

जिलाध्यक्ष दलजीत सिंह व मण्डल अध्यक्ष उमेद बोरा ने कहा कि डोईवाला गन्ना मिल द्वारा

किसानों के साथ आंख मिचौली खेली जा रही है जिसे किसान अब बर्दास्त करने की स्थिति में

नहीं है। किसान के गन्ने से मिल बेहतर स्थिति में है।

किसान सभा जिला उपाध्यक्ष व मण्डल सचिव याक़ूब अली व मण्डल उपाध्यक्ष ज़ाहिद अंजुम

ने कहा कि सरकार और मिल प्रशासन दोनों किसानों को धोखा दे रहे हैं ।

अभी तक राज्य सरकार गन्ने का रेट घोषित नही कर पाई है। वहीँ दूसरी तरफ मिल द्वारा

किसानों को कोई अग्रिम भुगतान नहीं किया जा रहा। ताकि परेशान किसान अपनी कुछ जरूरतों को पूरा कर सके ।

प्रदर्शन को किसान नेता उमेद बोरा व जगजीत सिंह ने भी सम्बोधित करते हुए कहा कि

डोईवाला का किसान बहुत शांत स्वभाव का है। लेकिन अगर मिल द्वारा उनके साथ गन्ना

भुगतान को लेकर किसी भी तरह से धोखेबाजी की गई तो किसान उसे बर्दास्त नहीं करेगा।

उन्होंने मिल प्रशासन को चेतावनी देते हुए कहा कि यदि शीघ्र ही भुगतान नहीं होता तो किसान

सभा किसी भी समय भुगतान की निर्णायक लडाई के लिए अनिश्चय कालीन धरने के लिए बाध्य होगी ।

उपस्थित किसानों ने ईडी द्वारा वार्ता के लिए मिल के अंदर जहां वह कर्मचारियों द्वारा किये

जा रहे काम की निगरानी कर रहे थे। वहां किसानो को भेजे गये आमंत्रण को ठुकराते हुए

शीघ्र भुगतान की चेतावनी देते हुए मिल परिसर से बाहर आ गए ।

इस अवसर पर गुरचरण सिंह, प्रेम सिंह, समशाद अली, साधु राम, मिलनजीत सिंह,

इलियास अली, राजेन्द्र कुमार, कमल अरोड़ा, दीपक कुमार, सरजीत सिंह, सईद हसन, हरबंश

सिंह आदि काफी संख्या में किसान उपस्थित रहे।

Related Articles

Back to top button
error: Content is protected !!