अपराधउत्तराखंडदेशदेहरादूनराज्य

डोईवाला से रिटायर्ड शिक्षक के पांच लाख रूपए लेकर भागे थे टप्पेबाज, पुलिस ने पश्चिम बंगाल तक पीछा कर किया गिरफ्तार

डोईवाला। डोईवाला पुलिस ने एक रिटायर्ड शिक्षक के पांच लाख रूपयोंसे भरा बैग लेकर भागने वाले टप्पेबाज को धर धबोचा है।

12 सितंबर को वादी लाखन सिंह सचान निवासी नवज्योति विहार डोईवाला देहरादून ने कोतवाली में तहरीर दी थी कि वह दिनांक 12 सितंबर को एसबीआई बैंक डोईवाला से 05 लाख रू0 निकालकर अपने घर ले जा रहे थे। रास्ते में उन्होने पैसे से भरा हुआ हैण्ड बैग डोईवाला चौक के पास अपने परिचित व्यक्ति की ठेली के पास रखा।

और चाय पीने लग गये। थोडी देर में  जब वह वापस जाने लगे तो पता चला कि कोई अज्ञात व्यक्ति उनका पैसे से भरा बैग उठाकर ले गया है। उन्होने आस पास के लोगों से पूछताछ की तो ज्ञात हुआ कि एक अधेड उम्र का व्यक्ति उक्त बैग उठाकर ले गया है। इस घटना के सम्बन्ध में थाना डोईवाला पर मु0अ0स0 322/22 धारा 379 आईपीसी बनाम अज्ञात पंजीकृत किया गया था।

सीसी टीवी कैमरों की फुटेज से पुलिस को पता चला कि आरोपी रास्ते में अलग-अलग उतरकर कुछ लोग पैदल चलकर व कुछ ऑटोरिक्शा से एक देहरादूने के रास्ते मे पडने वाले एक निजी अस्पताल में अपने आप को किसी मरीज का तिमारदार बताकर वेटिंग एरिया में करीब 03 घण्टे रुके रहे, ताकि अगर पुलिस कहीं रास्ते में चैकिंग करे तो वह पुलिस के हाथ ना आए। अस्पताल में अपनी पहचान छिपाने के लिये उनके द्वारा आपस में एक-दूसरे से कोई बात नही की गयी।

इसके बाद अपनी पहचान छिपाने के लिये अपने कपडे बदल कर अलग-अलग रास्तों से रेलवे स्टेशन व बस स्टेशन चले गये। पुलिस ने लगभग 200 सीसी टीवी कैमरे चैक करते हुये अपराधियों के जूते व चप्पलों से पहचान करते हुये उनका पीछा दिल्ली रेलवे स्टेशन व बस अड्डे तक किया। अपराधी अत्यन्त शातिर थे कि उन्होंने आपराधिक घटना से पूर्व या बाद में किसी भी मोबाईल फोन का प्रयोग नहीं किया ।

कैमरों के अवलोकन से यह बात भी स्पष्ट हुयी कि अपराधी दिल्ली से हरिद्वार व हरिद्वार से देहरादून से आये थे । उसके बाद यह लोग घूमते-फिरते अपराध करने डोईवाला तक आये। वहीं बैंक में काफी देर तक अलग-अलग होकर हाथों में विथड्राल फार्म आदि लेकर घूमते रहे। जब उन्होनें वादी को बडी मात्रा में कैश निकालते देखा तो उसके पीछे चल दिये। रास्ते में मौका देखकर वादी को सडक पर पडे नोटों की बात बताकर व झांसा देकर उसका ध्यान भटकाकर टप्पेबाजी की यह घटना की।

टप्पेबाजों को पकड़ने जलपाईगुडी पहुंची पुलिस

डोईवाला। पुलिस टीम द्वारा जलपाईगुडी पश्चिम बंगाल पहुंचकर स्थानीय लोगों और पुलिस मुखबिरों को संदिग्ध व्यक्तियों की फोटोग्राफ दिखायी गयी। पुलिस को ज्ञात हुआ कि जलपाईगुडी से करीब 40 किमी0 आगे फाटापुकुर नाम की जगह मे टप्पेबाजी करने वाले कुछ अपराधी रहते हैं, जो पूरे देश मे अलग अलग स्थानों में घूम-घूमकर टप्पेबाजी की घटनाओं को अंजाम देते हैं।

पुलिस टीम द्वारा फाटापुकुर पहुंचकर वहां के कैमरों को भी चैक किया गया। साथ ही स्थानीय मुखबिरो से जानकारी करने पर ज्ञात हुआ कि इस प्रकार की घटनाये करने वाले शातिर अपराधियों का एक गैंग है, जिसे गवाला गैंग के नाम से जाना जाता है। यह फाटापुकुर झांझीपुरा थाना राजगंज जिला जलपाईगुडी पं0बंगाल में रहते हैं। यह गैंग कभी भी पुलिस के हत्थे नही चढा है।

एक पुलिकर्मी की हुई थी हत्या

डोईवाला। पूर्व में भी एक अन्य प्रदेश की पुलिस टीम कुछ अभियुक्तो की गिरफ्तारी हेतु फाटापुकुर गई थी, जिनके साथ इस गैंग के लोगों एवं उनके परिवार वालों द्वारा मारपीट कर एक पुलिस कर्मी की हत्या भी कर दी थी। पुलिस टीम को ज्ञात हुआ कि वर्तमान में प0 बंगाल में दुर्गा पूजा चल रही है। इस गैंग के कुछ सदस्य पूजा करने फाटापुकुर आ सकते हैं।

 इसके बाद पुलिस टीम द्वारा फाटापुकुर इलाके के बाहर मुख्य मार्ग पर 02 मन्दिर चिन्हित किये गये व दिन-रात मन्दिर के बाहर अभियुक्तों के आने का इन्तजार करते रहे। दिनांक 05.10.2022 को दशहरे वाले दिन एक अभियुक्त घर से बाहर निकलकर दुर्गा मन्दिर पर पहुंचा, पुलिस टीम द्वारा संदिग्ध व्यक्ति का हुलिया पूर्व मे कैमरो से बरामद  फोटोग्राफ से मैच किया गया तो उक्त व्यक्ति के घटना मे शामिल होने की पुष्टि हुई।

पीछा करते हुये करीब 500 मीटर दौड कर अभियुक्त को पकड लिया। अभि0 द्वारा अपनी गिरफ्तारी का काफी विरोध किया और हल्ला करते हुये आस-पास की औरतों को इकट्ठा कर लिया। गिरफ्तार अभियुक्त ने घटना मे स्वंय को शामिल बताते हुये अपना नाम मंजीत गवाला पुत्र अजीत गवाला निवासी फाटापुकुर झांझीपुरा जिला जलपाईगुडी पश्चिम बंगाल बताया। घटना में शामिल अन्य आरोपियों को भी पुलिस ने धर दबोचा।

घटना करने का तरीका

डोईवाला। आरोपियों द्वारा सर्वप्रथम बैंकों के अन्दर बाहर रैकी की जाती है व देखा जाता है कि किस व्यक्ति द्वारा कितना पैसा बैंक से निकाला जा रहा है व कौन सा व्यक्ति इनका साफ्ट टारगेट हो सकता है । इसके उपरान्त वह उक्त व्यक्ति का पीछा करते हैं व मौका देखकर ध्यान भटकाने के लिये उस व्यक्ति के आगे 10-10 रु0 के नोट फेंक देते हैं,  उसको बताते हैं कि आपका पैसा नीचे गिरा हुआ है। जब वह व्यक्ति इनकी बातों में आकर जमीन पर पडा पैसा उठाने लगता है तभी आरोपी मौका देखकर उसके पैसों से भरा बैग उठाकर ले जाते हैं ।

नाम पता आरोपीगण

1-मंजीत गवाला पुत्र अजीत गवाला निवासी फाटापुकुर झांझीपुरा जिला जलपाईगुडी पश्चिम बंगाल उम्र-30 वर्ष

2-रवि गवाला पुत्र सदानन्द गवाला निवासी फाटापुकुर झांझीपुरा जिला जलपाईगुडी पश्चिम बंगाल उम्र-45 वर्ष

3-जौनी   4-विक्की   5-सुन्दर   6-शिवा निवासीगण फाटापुकुर  7-वीरु निवासी बिहार

बरामदगी का विवरण

घटना में चोरी हुये रुपयों में से 01 लाख रु0 बरामद होना ।

ये भी पढ़ें:  शिक्षा विभाग में रिक्त पदों को शीघ्र भरा जायेगा – डॉ. धन सिंह रावत

Related Articles

Back to top button
error: Content is protected !!