उत्तराखंडदेहरादूनराज्य

राज्य आंदोलकारी मंच की बैठक में हिमाचल जैसा भू-कानून समेत राज्यहित से जुड़े कई मुद्दों पर बनी सहमति 

Listen to this article

देहरादून। रविवार को कचहरी स्तिथ शहीद स्मारक पर उत्तराखंड राज्य आंदोलनकारी मंच की एक महत्वपूर्ण बैठक संपन्न हुई।

जिसमे राज्य हित से जुड़े मुद्दों जैसे मूल निवास नीति शीघ्र पूर्व की भांति लागू करने, हिमाचल की तर्ज़ पर सख्त भू क़ानून लागू करने परिसीमन भौगोलिक आधार पर करने, राजधानी गैरसैण, आंदोलनकारी चिन्हिकरण प्रक्रिया को पूरा करने, लोकायुक्त लागू करने , अंकिता हत्याकांड क़े दोषियों को सख्त सजा देने की मांग को लेकर आगामी रणनीति पर गहन विचार विमर्श किया गया।

सर्व सम्मति से तय किया गया की इन सब मुद्दों को लेकर सभी आंदोलनकारी एवं उनसे जुड़े संघठन आगामी 6 नवंबर को राज्य स्थापना दिवस पूर्व गाँधी पार्क मे सरकार को जगाने क़े लिए एकत्रित होकर धरना देंगे.

ओर धरने पर सरकार द्वारा किसी को मांगे न मानने पर या संज्ञान न लिए जाने या किसी बडे मन्त्री या प्रतिनिधि को संज्ञानार्थ ज्ञापन लेने या मांगे न सुनने की स्थती मे मुख्यमंत्री आवास कूच भी किया जा सकता है।

बैठक मे वक्ताओ ने जबरदस्त आक्रोश व्यक्त करते हुए कहा की प्रदेश मे जिस तरह क़े हालात बन गये हैँ उससे राज्य निर्माण की अवधारणा ही खतरे मे पड़ गई है.

एक तरफ समानता क़े अधिकार क़े नाम पर राज्य निर्माण करने वाले राज्य आंदोलनकारियों एवं उत्तराखंड की महिलाओ का आरक्षण ही समाप्त किया जा रहा दूसरी तरफ विधानसभा भर्ती को जायज ठहराया जा रहा हैँ.

वक्ताओ ने कहा की अब राज्य आंदोलनकारीयों का 10%आरक्षण एवं महिलाओ का 30% आरक्षण तुरंत बहाल किया जाए . उपनल कर्मियों को कोर्ट क़े आदेशानुसार समान काम का समान वेतन दिया जाए. ओर उनको नियमित किया जाए… उद्योगो मे हरियाणा की तरह 70% स्थानीय लोगों को क़ानून बना कर इसे सख़्ती से लागू किया जाए.

खाली पड़े पदों पर तुरंत नियुक्ति की जाये ओर परीक्षाओं को पारदर्शी तरीके से निश्चित समय मे संपन्न करा सफल अभ्यर्थीयों नियुक्ति प्रदान की जाये.. आंदोलनकारीयों क़े चिन्हिकरण मे बरती जा रही शिथिलता पर भी नाराजगी व्यक्त की गई.

मांग की गई की सरकार पुनः पूर्व की भांति पांचवे मानक को शामिल करते हुए पुनः चिन्हिकरण क़े आदेश जारी किये जाएँ ओर इसे समय बध अवधि मे छूट गये लोगों का चिन्हिकरण कर हमेशा क़े लिए बंद कर दिया जाए।

आंदोलनकारियों ने एक स्वर मे मांग की कि अंकिता हत्या कांड क़े दोषी किसी भी सूरत मे बचने नहीं चाहिए वर्ना सड़क पर आंदोलन होगा. ओर सभी संचालित रिसोर्ट पर कड़ी नज़र रखी जायी… बैठक की अध्यक्षता आंदोलनकारी मंच क़े प्रदेश अध्यक्ष जगमोहन सिँह नेगी ने की तथा संचालन पूर्ण सिँह लिंगवाल ने किया।

आगामी 6 नवंबर क़े कार्यक्रम की सफलता हेतु तन मन धन से लगने का आह्वान किया गया… बैठक को प्रमुख रूप से आंदोलनकारी मंच क़े अध्यक्ष जगमोहन सिँह नेगी प्रदेश महासचिव राम लाल खंडूरी विकासनगर से आये यूकेडी क़े संरक्षक ओर आंदोलनकारी सुरेंद्र कुकरेती, उर्मिला शर्मा, सुलोचना भट्ट, अरुणा थपलियाल, जय दीप सकलानी, केशव

उनियाल, पुष्पलता सिलमाना, उषा कोठारी, पूर्ण सिँह लिंगवाल,सुशील त्यागी, प्रताप सिंह रावत, गौरव खंडूरी, भूमा रावत,सावी नेगी, सरोजनी रावत वीना भट्ट, वीर सिँह रावत, चंद्र किरण राणा, धर्मपाल सिंह रावत, कमला खंतवाल, मोहन सिँह रावत, सुरेश नेगी,श्रीमती राधा तिवाड़ी, ऋषिकेश से आये।

युद्धवीर सिँह चौहान, विक्रम भंडारी, विनोद असवाल, सुशील घिल्डियाल, नरेश नेगी, दिनेश भंडारी,देवेश्वरी गुसांईं, राजेश्वरी रावत, जसोदा रावत, ममता कपुरवाण. आदि शामिल रहे।

Related Articles

Back to top button
error: Content is protected !!