उत्तराखंडदेहरादूनधर्म कर्ममनोरंजनराजनीति

दशरथ की मौत से अयोध्या नगरी में शोक की लहर

Listen to this article

चरण पादुकाएं लेकर वापस अयोध्या लौटे भरत

देहरादून। जौलीग्रांट में आयोजित रामलीला के पांचवें दिन कलाकारों ने दशरथ मरण का मंचन किया।

भगवान राम चौदह वर्ष के लिए वन चले जाते है। राजा दशरथ बीमार हो जाते हैं। पुत्र वियोग में राजा के प्राण निकल जाते हैं। दशरथ की मौत से अयोध्या नगरी में शोक की लहर दौड़ जाती है। वहीं जब भगवान राम को पिता की मौत का पता चलाता है तो वह भी शोकाकुल हो जाते हैं। दशरथ मरण मंचन को देखकर श्रद्धालुओं की आंखे नम हो गईं। कलाकारों द्वारा केवट संवाद का मंचन किया गया। भगवान राम केवट से सीता व लक्ष्मण सहित नाव से नदी पार कराने को कहते हैं। केवट इस दौरान अपने आंखों से निकले आंसुओं से भगवान के पैर साफ कर नदी पार कराते है।

भरत जी व्याकुल होकर माता कैकई से नाराज होकर राम जी से मिलने वन में चले जाने और राम जी के समझाने पर उनकी चरण पादुकाएं लेकर वापस अयोध्या लौटने का दृश्य पात्रों द्वारा बड़े ही सुंदर ढ़ंग से प्रस्तुत किया गया। पांचवे दिन की लीला का शुभारंभ तेजपाल और उनके पुत्र सिद्धांत द्वारा किया गया। आज की लीला में अध्यक्ष जोगेन्दर पाल व मंत्री हरीशचंद ने मुख्य अतिथियों का माल्यार्पण कर सम्मान किया। मोके पर निर्देशक सुरेश चंद, राजेश कुमार, अशोक धीमान अमित जोशी व अरुण शर्मा उपस्थित रहे।

Related Articles

2 Comments

  1. First of all, thank you for your post. bitcoincasino Your posts are neatly organized with the information I want, so there are plenty of resources to reference. I bookmark this site and will find your posts frequently in the future. Thanks again ^^

  2. Hi, I think your site might be having browser compatibility issues. When I look at your website in Safari, it looks fine but when opening in Internet Explorer, it has some overlapping. I just wanted to give you a quick heads up! Other then that, fantastic blog!

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button
error: Content is protected !!