उत्तराखंडदेशदेहरादूनस्वास्थ्य और शिक्षा

एसडीआरएफ जौलीग्रांट के जवान ने यूरोप की सबसे ऊंची चोटी माउंट एलब्रुस को फतह कर इतिहास रचा

Listen to this article

माउंट एल्ब्रुस को फतह करने वाले उत्तराखण्ड पुलिस के प्रथम पुलिसकर्मी बने राजेंद्रनाथ

डोईवाला। एसडीआरएफ जौलीग्रांट के जवान राजेन्द्र नाथ ने यूरोप महाद्वीप की सबसे ऊँची चोटी माउंट एलब्रुस को फतह करने में सफलता पाई है।

बीते 12 अगस्त को एसडीआरएफ जवान आरक्षी राजेन्द्र नाथ ने बहुत खराब मौसम में यूरोप महाद्वीप स्थित सबसे ऊंची चोटी माउंट एल्ब्रुस् को फतह करके इतिहास रचा है। ऐसा करने वाले वह उत्तराखण्ड पुलिस के प्रथम पुलिस कर्मी बन गए हैं। 360 एक्सप्लोरर महाराष्ट्र द्वारा बीते 09 अगस्त से 17 अगस्त तक यूरोप महाद्वीप की सबसे ऊंची चोटी माउंट एलब्रुस (5642 मीटर) पर एक्सपीडिशन का आयोजन किया गया था।

जिसका उदेश्य स्वतंत्रता दिवस पर माउंट एलब्रुस पर आरोहण कर भारतीय ध्वज फहराना था। लेकिन दिनाँक 13,14,15 को खराब मौसम की चेतावनी के चलते टीम ने बड़ा साहस दिखाते हुए 12 ऑगस्ट को ही एल्ब्रुस् को फतह कर वहा तिरंगा फहराया दिया।

वर्ष 2001 से पुलिस में सेवा दे रहे आरक्षी राजेन्द्र नाथ पूर्व में भी एक कीर्तिमान हासिल कर चुके है जिसमें यह उत्तराखंड के प्रथम पुलिसकर्मी बने हैं। इससे पहले वो माउंट त्रिशूल (7120 मीटर) का सफलतापूर्वक आरोहण कर चुके हैं।

माउंट त्रिशूल को पर्वतारोहियों द्वारा प्री-एवरेस्ट के रूप में किया जाता है। राजेन्द्र नाथ द्वारा पूर्व में भी सतोपंथ, चंद्रभागा-13(6264 मीटर) एवं डीकेडी-2 (5670 मीटर) का भी सफलतापूर्वक आरोहण किया गया था। जिससे एसडीआरएफ मुख्यालय जौलीग्रांट सहित पूरे एसडीआरएफ उत्तराखंड के जवानों में खुशी की लहर है।

Related Articles

Back to top button
error: Content is protected !!