उत्तराखंडदेशदेहरादूनधर्म कर्मराजनीतिस्वास्थ्य और शिक्षा

कोटा से रेस्क्यू कर उत्तराखंड लाए विद्यार्थियों को किया क्वारंटीन

Listen to this article

रेस्क्यू कर कोटा में फंसे विद्यार्थियों को उत्तराखंड लाई एसडीआरएफ

डोईवाला। एसडीआरएफ रेस्क्यू दल ने लॉक डाउन के कारण कोटा में फंसे सैकड़ों छात्रों को रेस्क्यू किया है।

सभी विद्यार्थियों को उत्तराखंड लाया जा चुका है। एसडीआरएफ सेनानायक तृप्ति भट्ट के निर्देशानुसार रिस्पांस फोर्स के जवानों ने इस रेस्क्यू को अंजाम दिया है। 19 अप्रैल को आरम्भ हुए इस अभियान 39 जवानों का एक दल देहरादून से आगरा को रवाना हुआ। प्रशासनिक कारणों से कोटा से आने वाले छात्रों की बसों का स्टेजिंग एरिया आगरा के स्थान पर मथुरा बनाया गया।

स्टेजिंग एरिया में ही सभी छात्र-छात्राओं का चिकित्सीय परीक्षण किया गया। कुमाऊँ ओर गढ़वाल के छात्र-छात्राओं के लिए अलग-अलग व्यवस्था कर सोशियल डिस्टेंस के अनुसार बिठाकर मास्क वितरण और सेनेटाइज किया गया।

प्रत्येक वाहन में एक फर्स्ट एड बॉक्स और आकस्मिक परिस्थितियों से निपटने को पेरामेडिक्स को भी टीम में रखा गया। 20 अप्रैल को कुल 411 छात्र-छात्राओं को उत्तराखंड लाया गया। जिसमें 262 को हल्द्वानी और 149 छात्र छात्राओं को ऋषिकेश पहुंचाया गया।

कोटा से उत्तराखण्ड लाए गए सभी छात्र-छात्राओं को क्वारन्टीन किया गया है। अभियान में सम्मलित हुए सभी एसडीआरएफ जवानों को भी हल्द्वानी और ग्राफिक एरा देहरादून में क्वारन्टीन किया गया है।

कोटा से लाए गए स्टूडेंट्स

अल्मोड़ा 14, बागेश्वर 03, चम्पावत 19, पिथौरागढ़ 31, नैनीताल 50, रुद्रपुर 145 कुलयोग कुमाऊँ मंडल 263

गढ़वाल मंडल पोड़ी 19, टिहरी 05, चमोली उत्तरकाशी06, रुद्रप्रयाग03, हरिद्वार66, देहरादून 42, योग गढ़वाल मंडल 148

Related Articles

8 Comments

  1. obviously like your web-site however you need to check the spelling on quite a few of your posts. Many of them are rife with spelling problems and I in finding it very troublesome to inform the truth on the other hand I?¦ll surely come back again.

  2. Whats up very nice web site!! Guy .. Beautiful .. Superb .. I’ll bookmark your site and take the feeds also?KI am happy to find a lot of useful info right here in the post, we’d like develop more techniques in this regard, thanks for sharing. . . . . .

  3. I have been exploring for a little bit for any high quality articles or blog posts in this kind of area . Exploring in Yahoo I eventually stumbled upon this website. Reading this info So i am satisfied to convey that I’ve an incredibly excellent uncanny feeling I found out just what I needed. I such a lot surely will make certain to don¦t put out of your mind this site and give it a look on a relentless basis.

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button
error: Content is protected !!