उत्तराखंडएक्सक्यूसिवदेशदेहरादूनधर्म कर्मस्वास्थ्य और शिक्षा

कोविड से मारे गए लोगों के दाह संस्कार को देवदूत बनकर आगे आई एसडीआरएफ

Listen to this article

देहरादून। रेस्क्यू फोर्स एसडीआरएफ कोरोना संकट के समय एकबार फिर देवदूत बनकर सामने आई है। एसडीआरएफ के द्वारा कोविड संक्रमित से मृत शवों के दाह संस्कार के लिए टीमें गठित की गई हैं।

उपमहानिरीक्षक एसडीआरएफ रिद्धिम अग्रवाल के दिशा निर्देशन और सेनानायक नवनीत भुल्लर के नेतृत्व में एसडीआरएफ की टीमों ने कोविड संक्रमित शवों का दाह संस्कार शुरू कर दिया है। दाह संस्कार में पूर्ण रूप से से भारत सरकार द्वारा जारी एसओपी के नियमों का विशेष ध्यान रखा जा रहा है।

सम्पूर्ण टीम मेम्बर पूर्ण सुरक्षा उपकरण दस्ताने , ग्लब्स दस्ताने पीपीई किट को धारण करने के पश्चात ही चिह्नित शमशान घाटों में शवों का दाह संस्कार कर रहे है।

कुमाऊं परिक्षेत्र में इंस्पेक्टर गजेंद्र परवाल जबकि गढ़वाल परिक्षेत्र में इंस्पेक्टर जगदम्बा बिजल्वाण के नेतृत्व में जनपद वार टीमें बनाई गई हैं। कोविड संक्रमण परिदृश्य में अनेक बार परिजनों द्वारा दाह संस्कार किये में डर अथवा संशय के कारण शव के करीब आने से मना कर दिया जा रहा है। जिस कारण एसडीआरएफ दाह संस्कार की जिम्मेदारी को निभा रही है।

एसडीआरएफ जवानों ने वैश्विक संकट के दौर में महामारी से लड़ने के लिए उच्च मनोबल के साथ एकजुट होकर जंग में कूदे हैं। जहां टीमें होम आएशोलेशन में रह रहे संक्रमितों को मेडिकल उपलब्ध करा थी। अब जवान सजग सतर्ग होकर अस्पताल में आएशोलेशन वार्ड ड्यूटी भी निभा रहे हैं। होम टू होम मेडिकल किट अभियान के तहत अभी तक सैकड़ों जरूरतमंद लोगों तक मेडिकल किट पहुँचाया गया है।

मेडिकल किट में Tab Ivermectin 12mg, Tab Doxycycline100mg, Calcium Sachet, Vitamin c500 mg, Tab Zinc, Tab Paracetamol 500
azithromycin 500 mg हैं

Related Articles

Back to top button
error: Content is protected !!