अपराधउत्तराखंडराजनीतिराज्यस्वास्थ्य और शिक्षा

परीक्षा से पहले पेपर लीक से युवाओं का भविष्य हो रहा चौपट: सपा

डोईवाला। सपा कार्यकर्ताओं ने कहा कि प्रदेश में किसी भी प्रतियोगी परीक्षा से पहले उसका पेपर लीक हो जाता है।

जिससे प्रतियोगी परीक्षा की तैयारी कर रहे युवाओं को निराशा हाथ लगती है।

और परीक्षा में पेपर खरीदने वाले इसका लाभ उठा लेते हैं। जो राज्य के युवाओं के भविष्य के साथ खिलवाड़ है। सपा नेता

फुरकान अहमद कुरैशी ने कहा कि राज्य सरकार जो भी भर्ती निकालती है उसका पेपर परीक्षा से पहले ही लीक हो जाता है।

जिससे शिक्षित बेरोजगार नौजवान तैयारी और मेहनत करने के बावजूद भी हाथ मलते रह जाते हैं। और उनके हाथ आती है

सिर्फ और सिर्फ निराशा और हताशा। इस हताशा और निराशा से कई नौजवानों ने मौत को गले लगाया है। बीते नौ फरवरी

को पेपर लीक होने के विरोध में शिक्षित बेरोजगार नौजवान शांतिप्रिय तरीके से अपना धरना प्रदर्शन कर रहे थे। जिन प

लाठियां चलाई गई। नौजवानों पर विभिन्न धाराओं में मुकदमे दर्ज किए गए हैं। जिसकी सपा घोर निंदा करती है।

उनकी मांग है कि सभी नौजवानों के ऊपर जो मुकदमे हुए हैं वह वापस किए जाएं।

और पेपर लीक होने की हाईकोर्ट के सिटिंग जज से जांच कराई जाए। वहीं दोषी अधिकारियों को और पेपर लीक कराने वालों

को दंडित किया जाए। सलीम अंसारी ने कहा कि नेताओं उनके रिश्तेदारों को चुपचाप रोजगार दिया जा रहा है। जिनकी सपा

घोर निंदा करती है। प्रदेश के युवाओं के साथ अन्याय नहीं किया जाना चाहिए। और उन्हे रोजगार के अवसर दिए जाने

चाहिए। इस संबध में सपा ने डोईवाला प्रशासन के माध्यम से एक ज्ञापन भी राज्यपाल को भेजा। मौके पर शरारफ

सलमानी, जाहिद अंजुम, याकूब अली, रामेश्वर पांडे, अश्वनी त्यागी आदि मौजूद रहे।

ये भी पढ़ें:  सेवानिवृत्त प्रधानाचार्यों, शिक्षकों एवं कर्मचारियों ने ली कांग्रेस की प्राथमिक सदस्यता

Related Articles

Back to top button
error: Content is protected !!