अपराधउत्तराखंडदेशदेहरादूनराजनीतिस्वास्थ्य और शिक्षा

क्षेत्र की सबसे प्रदूषित नदी बन चुकी सुसवा को बचाने के लिए छात्र-छात्राओं ने निकाली डोईवाला में रैली

Dehradun. पर्यावरण को स्वच्छ करने और सुसवा नदी के अस्तित्व को बचाने की मुहिम के तहत पब्लिक इंटर कालेज के छात्र-छात्राओं और कौशल्या देवी फाउंडेशन से जुड़े लोगों ने नगर में एक जन जागरूकता रैली निकाली।

वकताओं ने कहा कि आज जीवन दायिनी नदियों के अस्तित्व पर खतरा मंडरा रहा है। जिसके लिए सभी को जागरूक होना पडेगा। मंगलवार को रैली को नगर पालिका डोईवाला की कर्मचारी पर्यावरण मित्र रानी ने हरी झंडी दिखाकर रवाना किया। रैली नगर के मिल रोड, चौक बाजार, देहरादून रोड से होते हुए चाँदमारी मोड तक पहुंची।

रैली में छात्र छात्राएं हाथो में पर्यावरण को बचाने का सन्देश लिए तख्ती लेकर और नारे लगाते चल रहे। रैली वापस कालेज में आकर संपन्न हुई। इससे पूर्व कालेज के प्रधानाचार्य जितेन्द्र कुमार ने छात्र छात्राओं को सम्बोधित करते हुए कहा कि आज विश्व में सबसे बडा संकट पर्यावरण को बचाने का है। प्रदूषण ने नदियों को पूरी तरह से लील लिया है।

 

कौशल्या देवी फाउंडेशन से जुड़े पूर्व प्रधान उमेद बोरा ने कहा कि डोईवाला की कृषि को जीवन देने वाली सुसवा नदी प्रदूषण की वजह से अपने वजूद को बचाने के लिए संघर्ष कर रही है। यदि सुसवा को प्रदूषण से नही बचाया गया तो इसे समाप्त होने से नही रोका जा सकता है। रैली मे विद्यालय के एनसीसी कैडेटो ने भी भाग लिया।

स्वच्छता रैली का संचालन शिक्षक अश्विनी गुप्ता ने किया। रैली के दौरान फाउंडेशन की अध्यक्ष सुषमा बोरा, ताजेंद्र सिंह, बलबीर सिह, मोहित उनियाल, दरपान बोरा, सुरेन्द्र खालसा, शकुन्तला देवी, किरन बोरा, रूद्र प्रसाद के अलावा उप प्रधानाचार्य नरेश वर्मा, डीएस कंडारी, जेपी चमोली, अश्विनी गुप्ता, आलोक जोशी, ओमप्रकाश काला,  विवेक बधानी, सुदेश सहगल, राधा गुप्ता, अनिता पाल, आशुतोष डबराल, चेतन कोठारी, मयंक शर्मा आदि का योगदान रहा।

ये भी पढ़ें:  मुख्यमंत्री धामी ने जनता से फीडबैक लेकर अधिकारियों को दिए निर्देश

Related Articles

Back to top button
error: Content is protected !!