उत्तराखंडदेशदेहरादूनधर्म कर्मपर्यटनराजनीति

डोईवाला से आईएमए योजना का सीएम ने किया शुभारंभ, स्वरोजगार पर चालीस फीसदी खर्च करेगी सरकार

सीएम त्रिवेंद्र ने डोईवाला से किया आइएमए योजना का शुभारंभ

स्वरोजगार के लिए चालीस प्रतिशत खर्च करेगी सरकार: मुख्यमंत्री

Dehradun मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने डोईवाला के माजरीग्रांट से एकीकृत आदर्श कृर्षि ग्राम (आइएमए) योजना का शुभारंभ किया।

कृर्षि विभाग और संबधित विभागों द्वारा लगाए गए विभिन्न स्टॉलों का जायजा लेने के बाद मुख्यमंत्री ने दीप प्रज्जवलित कर कार्यक्रम का शुभारंभ किया। मुख्यमंत्री ने कहा कि 92 प्रतिशत पहाड़ी क्षेत्र सिंचाई से वंछित है। जबकि मैदानी क्षेत्र 92 फीसदी सिंचित है।

इसलिए असिंचित क्षेत्र के लिए योजन बनाई जा रही है। पहाड़ों में मशीनों से खेती पर उनकी सरकार जोर दे रही है। स्वरोजगार पर 40 प्रतिशत खर्च किया जा रहा है। ढाई सौ करोड़ स्वरोजगार व तीन सौ करोड़ एमएसएमई के लिए दिया जा रहा है। नए कृर्षि कानून पर शोर मचाने वालों के लिए कहा कि खेतों में चीनी उगाने वाले आज कृर्षि कानून का विरोध कर रहे हैं।

नए कृर्षि कानून से देश के किसानों के लिए पूरा बाजार खुल गया है। कहा कि उन्हे यूपी और उत्तराखंड की राजनीति में 28 वर्ष हो गए हैं। लेकिन किसी भी सरकार ने गन्ना पेराई सत्र शुरू होने से पहले किसानों का पूरा भुगतान कभी नहीं किया। जबकि उन्होंने गन्ना किसानों का पूरा भुगतान कर दिया है। पांच लाख समूहों को ऋण दिया जा रहा है।

भोगपुर में सूर्यधार बांध से 29 गांवों को पेयजल और सिंचाई का पानी मिलेगा। वहीं सौंग नदी पर बांध से 75 वर्षो तक पेयजल की कमी नहीं होगी। इससे नलकूपों पर खर्च होने वाली बिजली की बचत से ढाई सौ करोड़ बचेंगे। पिथौरागढ चंपावत, गैरसैंण, पौड़ी में भी झीलों का निर्माण किया जा रहा है। जिससे भूमिगत जल के संरक्षण में मदद मिलेगी। जल संरक्षण के क्षेत्र में कार्य के लिए दस हजार लोगों को जल्द नियुक्त किया जाएगा।

ये भी पढ़ें:  स्वास्थ्य मंत्री डॉ. धन सिंह रावत ने ली डेंगू रोकथाम की समीक्षा बैठक, जनपदों से फीडबैक लेकर पुख्ता तैयारियों के दिये निर्देश

विभिन्न उत्पादों के लिए जल्द लांच होगा उत्तराखंड का ब्रांड

Dehradun. मुख्यमंत्री ने कहा कि किसानों व विभिन्न समूहों की आय दोगुना करने के लिए एक अंब्रेला बांड जल्द ही लांच किया जा रहा है। जिसका नाम होली हिमालय ब्रांड होगा। कहा कि जब वो भांग की खेती की बात करते हैं तो लोग उसे नशे से जोड़ देते हैं। जबकि भांग से 500 किस्म की दवा बनाई जाती है। बिना नशे वाली भांग से कई तरह के कपड़े, जूते, टोपी जैकेट आदि बनाए जा सकते हैं। जो एंटी कैंसर के रूप में बहुत उपयोगी हो सकते हैं।

प्रदेश में चार बंदरबाड़ों का शिलान्यास जल्द

Dehradun. मुख्यमंत्री ने कहा कि किसानों की फसलों को बचाने के लिए प्रदेश में चार बंदरबाड़ों का शिलान्यास जल्द किया जाएगा। जिसमें प्राकृतिक तरीकों से डेढ लाख बंदरों का रखा जाएगा। प्रदेश में महिलाओं व बच्चों को कुपोषण से बचाने के लिए जल्द ही सौभाग्यवती कीट भी लांच की जा रही है।

कार्यक्रम में इन्हे मिला पुरूष्कार

Dehradun. कार्यक्रम में कृर्षि मंत्री सुबोध उनियाल और सहकारिता मंत्री धन सिंह रावत ने कहा कि उनकी सरकार ने चार लाख किसानों को ब्याजमुक्त ऋण व 12 हजार महिला समूहों को पांच-पांच लाख रूपए ऋण दिया है। कार्यक्रम में माजरीग्रांट के किसान कुलवीर सिंह को मुख्यमंत्री ने तीन लाख चौरानवे हजार सब्सिडी दिए गए ट्रैक्टर की चाबी सौंपी। अभिषेक रावत को 75 हजार सब्सिडी के कृर्षि यंत्र, मंजीत सिंह 15 हजार,

आत्मा परियोजना के तहत पशुपालन के क्षेत्र में रत्नी देवी को पशुपालन, राजेंद्र सिंह को जैविक उत्पाद, अर्जुन सिंह फल उत्पादन, मेहर सिंह को मत्स्य उत्पादन के लिए 25 हजार रूपए का चेक व प्रशस्ति पत्र दिया गया। पुष्पा देवी को किसानश्री पुरूष्कार दिया गया। मौके पर राज्यमंत्री करन बोरा, जिलाधिकारी आशीष कुमार, जिलाध्यक्ष शमशेर पुण्डीर, विनय कंडवाल, संपूर्ण सिंह रावत, भारत मनचंदा, अशोक राजपंवार आदि उपस्थित रहे।

ये भी पढ़ें:  मुख्य सचिव राधा रतूड़ी ने विभिन्न विभागों को दिए सख्त निर्देश, दी 24 घण्टे की डेडलाइन

Related Articles

Back to top button
error: Content is protected !!