उत्तराखंडएक्सक्यूसिवदेशदेहरादूनराजनीति

 Uttarakhand Vidhan Sabha Election-2022: आचार संहिता लगी, 14 फरवरी को मतदान, पढ़ें पूरी जानकारी

Listen to this article

मुख्य चुनाव आयुक्त सुशील च्रंदा ने चुनाव की तारीखों की घोषणा कर दी है। उत्तराखंड में विधानसभा चुनाव-2022 के लिए 14 फरवरी को मतदान होगा।

15 जनवरी तक राजनैतिक रैलियों पर रोक लगाई गई है।  कोविड कम होने पर ही रैली करने की अनुमति दी जाएगी।  उत्तराखंड में दूसरे चरण में चुनाव होगा। 21 जनवरी से उम्मीदवार नामांकन कर सकते हैं, जिसकी आखिरी तारीख 28 जनवरी होगी। नाम वापसी 31 जनवरी तक हो सकेगी। 10 मार्च 2022 को मतगणना होगी।

चुनावी रैली, रोड शो, बाइक रैली, नुक्कड़ सभाओं पर रोक लगा दी गई है। सिर्फ वर्चुअल कैंपेन की ही अनुमति होगी।  चुनाव की समाप्ति के बाद किसी भी तरह के विजय जुलूस पर रोक होगी।

चुनाव आयोग ने कहा कि इलेक्शन के दौरान अवैध पैसे और शराब पर कड़ी निगरानी रखी जाएगी। इसके अलावा कोरोना संकट को देखते हुए उम्मीदवारों को ऑनलाइन नामांकन की भी सुविधा दी जाएगी। चुनाव आचार संहित इलेक्शन शेड्यूल जारी होने के बाद ही लागू हो जाएगी। चुनाव की अधिसूचना तत्काल प्रभाव से लागू हो गई है और इसके चलते अब किसी भी राज्य में कोई सरकार जनता को लुभाने की घोषणाओं का ऐलान नहीं कर सकेगी।

वोटर अब प्रत्याशियों के बारे में सारी जानकारी मोबाइल ऐप से जुटा सकेगा। कहा कि ‘Know Your Candidate’ ऐप से वोटरों को उम्मीदवारों की सभी जानकारी मिल सकेगी। कहा कि यदि कोई राजनीतिक दल आपराधिक छवि वाले कैंडिडेट को चुनता है तो उसके बारे में अखबारों में जानकारी देनी होगी। इसके अलावा यह भी बताना होगा कि उन्हें क्यों चुना गया है। उम्मीदवारों को भी अपने ऊपर दर्ज आपराधिक मुकदमों के बारे में जानकारी होगी।

कोविड के बीच ऐसे होंगे चुनाव

15 जनवरी तक नो रोड शो, यात्रा और फिजिकल रैली नहीं होंगी. अगले आदेश इसके बाद जारी किए जाएंगे. किसी भी प्रत्याशी को डोर टू डोर कैंपेन के लिए अपने साथ 5 से अधिक कार्यकर्ताओं को ले जाने की अनुमति नहीं होगी। चुनाव करवाने वाला स्टाफ डबल वैक्सीनेटेड होगा. सभी स्टाफ को बूस्टर डोज़ भी दिया जाएगा. पोलिंग बूथ पूरी तरह से सैनिटाइज़ होंगे. उत्तराखंड में 99.6 फीसदी आबादी पहला डोज़ और 83 फीसदी डबल डोज़ ले चुकी है. यूपी में 90 फीसदी आबादी पहला 52 फीसदी दोनों डोज़ ले चुकी है.

खास बातें
कोविड के समय में चुनाव संपन्न करवाना वाकई काफी चुनौतीपूर्ण है,​​ जिसके लिए चुनाव आयोग ने पिछले कुछ महीनों में बड़ी तैयारी की है. इसके साथ ही, चुनाव आयोग ने पांचों राज्यों के वोटरों के आंकड़े देने के दौरान बताया कि महिला वोटरों की संख्या उत्तराखंड समेत इन सभी राज्यों में बढ़ी है. सभी पोलिंग बूथों पर बुनियादी सुविधाएं उपलब्ध रहेंगी. उत्तराखंड में हर 692 वोटरों पर एक पोलिंग स्टेशन होगा. पांचों राज्यों में 1000 से कम आबादी पर एक पोलिंग बूथ होगा.

खर्च की सीमा बढ़ी

उत्तराखंड में चुनाव प्रचार पर उम्मीदवार के खर्च की सीमा को बढ़ाकर 40 लाख रुपये कर दिया गया है. चुनाव आयोग ने संबंधित अधिकारियों और सिस्टम को निर्देश दिए हैं कि चुनाव के समय पैसे, शराब और ड्रग्स समेत किसी भी तरह की गैर कानूनी सामग्री वितरण न हो. राजनीतिक पार्टियों के लिए सुविधा एप आयोग ने डेवलप किया है,

पूरे प्रदेश में 81 लाख 43 हजार 922 मतदाता हैं, जिसमें 42 लाख 24 हजार 288 पुरुष, 39 लाख 19 हजार 334 महिला मतदाता है। पूरे प्रदेश में 93 हजार 964 सर्विस मतदाता हैं।

इस बार 2 लाख 97 हजार 922 नए मतदाता बने हैं। और विधानसभा चुनाव में 18 से 19 साल के एक लाख 11 हजार 458 युवा मतदाता बने हैं। मतदान के लिए 11 हजार 647 मतदाता बूथ बनाए गए हैं, जिनमें इस बार मतदान के लिए 635 बूथों को बढ़ाया गया है।

 

Related Articles

Back to top button
error: Content is protected !!