देशदेहरादूनराजनीतिराज्यस्वास्थ्य और शिक्षा

न्यूनतम मजदूरी का भुगतान ग्रेजुएटी सहित पेंशन और सामाजिक सुरक्षा को लेकर सीटू से सम्बद्ध आंगनवाड़ी कार्यकत्री /सेविका कर्मचारी यूनियन उत्तराखंड का धरना- प्रदर्शन

Listen to this article

देहरादून. सीटू से सम्बद्ध आंगनवाडी कार्यकत्री सेविका कर्मचारी यूनियन के द्वारा अखिल भारतीय मांग दिवस के अवसर पर देहरादून में भी यूनियन द्वारा धरना एवं प्रदर्शन किया गया.

धरना प्रदर्शन सीटू कार्यालय के बाहर राजपुर रोड पर दिया गया इस अवसर पर सीटू के महामंत्री लेखराज ने कहा कि आंगनवाड़ी कार्यकर्ता और सहायिका 1975 से एकीकृत बाल विकास योजना स्कीम के तहत देश के सामने मौजूद सबसे बड़ी चुनौती बच्चों के कुपोषण का सामना करते हुए देश की सेवा कर रहे हैं आज जबकि हम स्वतंत्रता की 75 वीं वर्षगांठ को अमृत महोत्सव के रूप में मना रहे है पर यह दुर्भाग्यपूर्ण है कि लगभग 27 लाख आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं और सहायिकाओं के लिए जो समाज के हाशिए के वर्गों की सभी महिलाएं हैं.

इस अवसर पर यूनियन की प्रांतीय अध्यक्ष जानकी चौहान ने कहा कि आंगनवाड़ी कार्यकर्ता और सहायिकाओं ने कोविड-19 महामारी के खिलाफ लड़ाई में राष्ट्रीय सेवा की है सेकड़ो वर्करों की जान जा चुकी है. अलग-अलग राज्यों में मजदूरों की मजदूरी 51 सो रुपए से लेकर 18000 रुपए प्रतिमाह तक है आंगनवाड़ी कार्यकत्रियों को न्यूनतम वेतन भी नहीं जाता है ।

इस अवसर पर प्रांतीय महामन्त्री चित्रकला ने कहा कि उत्तराखंड के अंदर हैं राज्य सरकार द्वारा चुनाव से पहले महिलाओं को मानदेय व्रद्धि का एक झुनझुना पकड़ाया गया है । उन्होंने कहा कि जनवरी माह से मानदेय तक नहीं दिया गया है और यहां तक की जो भवन किराया है वह भी नहीं दिया जा रहा है उन्होंने कहा कि भारत के सर्वोच्च न्यायालय ने 25 अप्रैल 2022 को एक महत्वपूर्ण फैसले में आंगनवाड़ी कार्यकर्ताओं और सहायिकाओं को कार्यकर्ता के रूप में माना जाना चाहिए और ग्रेजुएटी भुगतान अधिनियम 1972 के तहत ग्रेज्युटी का भुगतान किया जाना चाहिए जिसे उत्तराखंड सरकार तत्काल लागू करे ।

इस अवसर पर जिला अध्यक्ष ज्योतिका पांडेय ने कहा कि भारत सरकार के साथ-साथ राज्य सरकारें भी 45 वे और 40 में भारतीय श्रम सम्मेलनों की सिफारिशों को लागू करें ग्रेजुएटी पर माननीय सुप्रीम कोर्ट के फैसले को लागू करने और बेहतर वर्किंग कंडीशन के लिए तत्काल उपाय करें. न्यूनतम मजदूरी का भुगतान करें और इससे उपभोक्ता मूल्य सूचकांक से जोड़ें जो ए एस आई पीएफ और ग्रेजुएटी सहित पेंशन और सामाजिक सुरक्षा प्रदान करें उन्होंने कहा कि अच्छी गुणवत्ता वाले मोबाइल फोन उपलब्ध करवाए जाएं जिन्हें चरणबद्ध तरीके से टेबलेट द्वारा प्रस्तावित किया जाए आईसीडीएस के लिए बजट आवंटन सुनिश्चित करें ताकि गुणवत्तापूर्ण इसी की और आंगनवाड़ी कार्यकर्ता और सहायिका को मजदूरी और सामाजिक सुरक्षा सुनिश्चित की जा सके ।

इस अवसर पर सीटू के जिला उपाध्यक्ष भगवंत पयाल , कोषाध्यक्ष रविन्द्र नौढियाल , ज्योति वाला विष्णु राणा रेखा रावत आशा नेगी अनुराधा नीलम गुलनाज कमलेश ममता गीता पाल किरण मीना रजनी सविता देवी जैसा कि सरिता कश्यप मुन्नी शीलू सैनी ललिता चौधरी मीनू रजनी गुलेरिया उर्मिला भाग्यश्री शर्मा सावित्री गीता सत्यवती आदि बड़ी संख्या में कार्यकत्री सेविका उपस्थित थे. मजिस्ट्रेट मेहरबान सिंह के धरना स्थल पर पहुंचने पर उनको ज्ञापन सौपे । जिसके बाद धरना प्रदर्शन समाप्त किया।

Related Articles

Back to top button
error: Content is protected !!