उत्तराखंडदेशदेहरादूनस्वास्थ्य और शिक्षा

हिमालयीय विवि के कलाकारों ने ‘जीवन जल’ और ‘रक्त अभिषेक’ पर दी सुंदर नाट्य प्रस्तुती 

Listen to this article

देहरादून। विश्व रंगमंच दिवस की पूर्व संध्या पर हिमालयीय विश्वविद्यालय के रंगमंच विभाग द्वारा विभिन्न आयोजन और नाट्य प्रस्तुतियां दी गई।

कार्यक्रम के मुख्य अतिथि के रूप में पूर्व मुख्यमंत्री उत्तराखण्ड और पूर्व केन्द्रीय शिक्षा मंत्री डॉ0 रमेश पोखरियाल निशंक और विशिष्ट अतिथि विदूषी निशंक  ने दी प्रज्ज्वलित कर कार्यक्रम का शुभारंभ किया। कार्यक्रम में रंगमंच विभाग के प्राध्यापक अनुराग वर्मा द्वारा लिखित और निर्देशित नाटक ‘जीवन जल’ का और ‘रक्त अभिषेक’ विषय पर नाट्य प्रस्तुतियो आयोजित दी गयी।

और राष्ट्र व समाज निर्माण में रंगमंच की भूमिका विषय पर चर्चा परिचर्या की गयी। कार्यक्रम में संस्कार भारती के अध्यक्ष अजय वर्मा और विभाग के अन्य छात्र-छात्राओं द्वारा रंगमंच विषय पर अपने विचार व्यक्त किए। कुलपति प्रो0 जे.पी.पचौरी ने कहा कि कोविड के दौर से गुजरते हुए पिछले कुछ समय से रंगमंचीय गतिविधियाँ बेहद सीमित रही हैं।

और विश्व भर के कलाकार इन संकट भरे दिनो में अजिविका के लिए भी जूझते रहे। उन्होंने कहा की अब कलाकारो को दोगुने उत्साह से रंगमंच को समृद्ध करने के लिए जुट जाना चाहिए क्योकि रंगमंच कला संमृद्ध होगी तो राष्ट्र भी समृद्धि और शान्ति की तरफ बढ़ेगा।

कहा है कि विश्वविद्यालय रंगमंच के संरक्षण और विकास के लिए प्रतिबद्ध है और वि0वि0 का रंग मंच विभाग छात्रों और क्षेत्र के समर्पित कलाकारो के साथ मिलकर रंगमंच की गतिविधियों के संचालन के नए आयाम प्रस्तुत करेगा। डा0 निशंक द्वारा नाट्य प्रस्तुतियों की संराहना करते हुये रंगमंच के क्षेत्र में वि0वि0 द्वारा किये जा रहे प्रयासों को सराहा।

कार्यक्रम की अध्यक्षता हिमालयीय विश्वविद्यालय, के कुलाधिपति प्रो0 प्रदीप कुमार ने की तथा कार्यक्रम में हिमालयीय इस अवसर पर कुलपति प्रो0 जे.पी.पचौरी, प्रति-कुलपति डॉ0 राजेश नैथानी, प्राचार्य डॉ0 अनिल कुमार झा, रजिस्ट्रार डॉ0 निशांत राय जैन, प्राचार्य डॉ0 अंजना विलियमस, डॉ0 मोनिका अग्रवाल गुप्ता, राकेश पोखरियाल, हरिकृष्ण नवानी आदि उपस्थित रहे।

Related Articles

Back to top button
error: Content is protected !!